Actress Jhanvi kapoor  Shares The Image of Dhadak Sets on Social Media

दि राइजिंग न्यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ। 

 

पश्चिम यूपी में कैराना लोकसभा क्षेत्र और नूरपुर विधानसभा के लिए उपचुनाव की सरगर्मी का असर अब वहां की फिजां पर दिखने लगा है। सहारनपुर में बुधवार को एक युवक की हत्या के बाद माहौल तनावपूर्ण हो गया। वहीं, सोशल मीडिया पर चुनाव प्रचार में उतरे नेताओं के कैराना में भाजपा की हार का जश्न पाकिस्तान में मनाए जाने की दलीलों के कारण सियासत का रंग ज्यादा गहराता दिख रहा है।

दरअसल, कैराना और नूरपुर में इसी महीने के अंत में चुनाव होना है। गोरखपुर व फूलपुर उपचुनाव में हार के बाद यहां पर प्रदेश सरकार की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। इस कारण से सभी पार्टियां यहां पर कोई कसर नहीं छोड़ना चाह रही हैं। करीब पांच लाख मुस्लिम आबादी वाले कैराना में सपा की तब्बुसम हसन के राष्ट्रीय लोकदल के टिकट पर चुनाव लड़ने के कारण भाजपा के लिए यह सीट आसान नहीं रह गई है। ऊपर से समस्याओं से जूझ रहे गन्ना किसान भी सरकार के लिए दिक्कत पैदा कर सकते हैं।

खास बात यह है कि पश्चिम यूपी में किसी समय बहुत मजबूत समझा जाने वाला राष्ट्रीय लोकदल भी फिलवक्त अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रहा है। लिहाजा जाट वोटों को साधने के लिए हर मशक्कत हो रही है। इसके साथ ही इसमें मुस्लिम और पिछड़े वोट भी विपक्ष के संयुक्त प्रत्याशी के पक्ष में हो गए तो सत्तारूढ़ भाजपा की दिक्कत बढ़ना लाजिमी है।

इस सियासी जंग के लिए सभी दल अपने-अपने हिसाब से माहौल तैयार करने में जुट गए हैं। ऐसे में समस्याएं और ज्वलंत मुद्दों के बजाए फिर एक बार वोटों के ध्रुवीकरण के ही प्रयास तेज हो गए हैं। इसके लिए सारे पैंतरें आजमाए जाने लगे हैं। खास बात यह है कि वोटों के ध्रुवीकरण के लिए हर सियासी दल दूसरे को दोषी तो ठहरा रहा है, लेकिन खुद भी लगा उसी में है। ऐसे में पश्चिम उत्तर प्रदेश की दोनों सीटों पर चुनाव तो दिलचस्प हो गया है, लेकिन माहौल गर्म।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement