Irrfan Khan Writes an Emotional Letter About His Health

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

गुरुवार को यूपी एटीएस टीम ने लखनऊ टीम द्वारा तीन बांग्लादेशी युवकों को पकड़ने में कामयाब हासिल की है। इन्हें चारबाग रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार किया गया है। पकड़े तीनों आरोपी सगे भाई हैं, जिनके नाम मोहम्मद इमरान, रजीदुद्दीन और मो फिरदौस हैं।

ये छितिगड़ा पंतवाड़ा पोस्ट सूतीघटा थाना कोतवाली जिला जसौर बांग्लादेश को कल अपरान्ह में चारबाग रेलवे स्टेशन, लखनऊ से गिरफ्तार किया गया था। आज इनको न्यायालय पेश कर पीसीआर के लिए आवेदन दिया जा रहा है। तीनों युवक सगे भाई है।

 

 

यूपी एटीएस ने छह अगस्त 2017 को अंसारुल्ला बांग्ला टीम के आतंकी बांग्लादेशी अब्दुल्लाह अल मामून को मुजफ्फरनगर के कुटेसरा से गिरफ्तार किया था। अब्दुल्ला से पूछताछ में उसके अन्य साथियों के नाम भी प्रकाश में आए।

जिनकी तलाश में सितंबर 12 को देवबंद स्थित कई मदरसों में पूछताछ की गई। इसके बाद सूचना मिली कि एक मदरसे से तीन लड़के (एक अध्यापक व उसके दो भाई) भाग गए, जिसके आधार पर इन की तलाश की जा रही थी।

 

आधार बनाने वाले की तलाश

एटीएस जल्द ही आतंकियों का आधार कार्ड बनाने वाले गिरोह तक पहुंचने की कोशिश में जुट गई है। आशंका जताई जा रही है कि यही वो लोग हैं जो यहां आतंकियों को शरण देते हें और यहां से भागने में उनकी मदद करते हैं।

इसके अलावा कई और भी लोग हैं जो फर्जी पासपोर्ट बनवाने का भी काम करते हैं, उनके बारे में भी जानकारी जुटाई जा रही है।

 

 

मदरसों में अध्यापक बनकर रहते थे आतंकी

छह अगस्त 2017 को अंसारुल्ला बांग्ला टीम के आतंकी बांग्लादेशी अब्दुल्लाह अल मामून पुत्र रहीसुद्दीन को मुजफ्फरनगर के कुटेसरा क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया था। अब्दुल्ला से पूछताछ में उसके अन्य साथियों के नाम भी प्रकाश में आए थे, जिनकी तलाश में सितंबर 12 को देवबंद स्थित कई मदरसों में पूछताछ की गई।

इसके बाद सूचना मिली कि एक मदरसे से तीन लोग भाग गए हैं। इनकी घेराबंदी की गई और इन्हें लखनऊ रेलवे स्टेशन पर हावड़ा अमृतसर एक्सप्रेस से उतार कर पूछताछ की गई। उन्होंने स्वयं को बंग्‍लादेशी होने की बात स्वीकारी, इनके गलत नाम पते से बनवाया गया आधार कार्ड बरामद किया गया है।

 

 

इस विषय में यूपी आईजी एटीएस असीम अरुण ने कहा, ''इनकी घेराबंदी की गई और इन्हें लखनऊ रेलवे स्टेशन पर हावड़ा अमृतसर एक्सप्रेस से उतार कर पूछताछ की गई। इन्होंने स्वयं को बांग्लादेशी (और भारत में अवैध निवासी) होने की बात स्वीकार की है। इनके पास से नकली आधार कार्ड बरामद किया गया है। जिसके लिए इन्हें गिरफ्तार किया गया। इन्हें रिमांड पर लेकर पूछताछ की जाएगी कि ये अचानक देवबंद छोड़कर क्यों भागे। क्या इनके किसी आतंकी समूह से संबंध है? आदि की बारें में पता किया जा रहा है।”

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

The Rising News

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll