Kajol Says SRK is Giving Me The Tips of Acting

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

उत्‍तर प्रदेश के परिषदीय स्कूलों व मदरसों में बच्चों को मिड-डे मील के साथ फल मिलना बंद हो गया है। अक्षय पात्र समेत अन्य स्वयं सेवी संस्थाओं ने भुगतान न होने के कारण फल वितरण करने से हाथ खींच लिया है।

 

 

परिषदीय, मदरसा समेत अन्य स्कूली बच्चों को फल वितरण के मकसद से शुरू की समाजवादी पौष्टिक आहार योजना अब सरकारी तंत्र को अखरने लगी है। स्वयंसेवी संस्थाओं की मानें तो फरवरी 2017 से सितंबर 2017 तक के बिलों के भुगतान पर रोक लगा दी गई। साथ ही फल वितरण न किए जाने का मौखिक फरमान भी जारी कर दिया गया।

 

 

स्वयंसेवी संस्थाओं के बिल भुगतान न होने का खामियाजा जिले के दो लाख नौ हजार बच्चों को उठाना पड़ रहा। इन्हें मिड डे मील के साथ मौसमी फल नहीं दिए जा रहे। ऐसे में इन्हें सिर्फ मिड-डे मील से ही संतोष करना होगा।

मिड-डे मील प्राधिकरण के वित्त नियंत्रक अमित कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि किन कारणों से बजट शून्य हुआ है। इसके बारे में टिप्पणी नहीं कर सकता। हालांकि मुख्यमंत्री की ओर से इस संबंध में प्रस्ताव मांगा गया है।

 

 

संस्थाओं से जुड़े पदाधिकारियों का कहना कि फल वितरण के लिए जारी बजट को शासन ने शून्य कर दिया है। इस वित्तीय वर्ष में भी 200 करोड़ रुपये शासन द्वारा स्वीकृत किये गये। मगर बाद में बजट को शून्य कर दिया गया। स्वयं प्राधिकरण के जिम्मेदार भी कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement