Anushka Sharma Sui Dhaaga Memes Viral on Social Media

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के एग्जीक्यूटिव मेंबर (कार्यकारी सदस्‍य) रहे मौलाना सलमान नदवी पर पैसों की डीलिंग का बड़ा आरोप लगा है। यह आरोप अयोध्या सद्भावना समन्वय महासमिति के अध्यक्ष अमरनाथ मिश्र ने लगाया है। मिश्रा ने लखनऊ के हजरतगंज पुलिस स्टेशन जाकर नदवी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने कहा कि नदवी मस्जिद का दावा छोड़ने के एवज में 5,000 हजार करोड़ की डील चाहते थे।

मिश्रा ने कहा कि जिस फार्मूले को लेकर सलमान नदवी और सुन्नी सेंट्रल बोर्ड के अध्यक्ष श्रीश्री रविशंकर से मिलने गए थे। उस फार्मूले के पीछे एक बड़ी डील करने की तैयारी थी। अमरनाथ मिश्र श्रीश्री रविशंकर के सबसे करीबी माने जाते हैं।

मिश्रा ने आरोप लगाते हुए कहा कि, मैंने पांच फरवरी को नदवी से मुलाकात की थी। हमने बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि के मुद्दे पर चर्चा की। उन्होंने मुझसे इस मुद्दे पर एक लिखित प्रस्ताव देने के लिए कहा था। वह अयोध्या में मक्का की तरह एक और मस्जिद बनाना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने 200 एकड़ जमीन, राज्यसभा में सदस्यता और 5,000 करोड़ रुपये की मांग की थी।

क्या बोले नदवी?

वहीं मौलाना सलमान नदवी ने अमरनाथ मिश्रा के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि मैं किसी भी मिश्रा को नहीं जानता हूं। हम देश में शांति और समृद्धि का संदेश फैलाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि मिश्रा का आरोप हिंदुओं और मुसलमानों के बीच तनाव बनाए रखने के लिए ऐसे मुद्दों को उठाए जा रहे हैं।

नदवी ने कहा कि मुझे दुबई और कुवैत नहीं खरीद सका ये लोग क्या खरीदेंगे? उन्‍होंने कहा कि मैं उन बाबाओं में नहीं हूं जो जेल में जाते हैं। हमारा काम अल्हा और इंसानियत का काम है। खुदा उसे सजा देगा।

AIMPLB ने नदवी को किया था निष्कासित

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए सुलह का फॉर्मूला देने वाले मौलाना सैयद सलमान हुसैनी नदवी को ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने निकाल दिया है।

बता दें कि मौलाना नदवी ने कुछ दिन पहले आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर के साथ बेंगलुरु में बैठक के बाद अयोध्या विवाद सुलझाने के लिए फॉर्मूला दिया था।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll

Readers Opinion