Jhanvi Kapoor And Arjun Kapoor Will Seen in Koffee With Karan

दि राइजिंग न्‍यूज   

लखनऊ।  

 

आठ नवंबर, 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए कहा था कि रात 12 बजे से 1000 और 500 के नोट चलन से बाहर हो जाएंगे। बुधवार को नोटबंदी के एक साल पूरे हो गए।

नोटबंदी का एक साल पूरा होने के मौके पर बीजेपी "एंटी ब्लैक मनी डे" मना रही है। वहीं, विपक्षी नोटबंदी के एक साल को "काला दिन" के तौर पर मना रही है।

 

 

बसपा सुप्रीमो मायावती ने पीएम मोदी को सलाह देते हुए कहा कि "एंटी ब्लैक मनी डे" मनाने के बजाय “नोटबंदी माफी दिवस” मनाओ, क्योंकि नोटबंदी के आपके अड़ियल और निरंकुश रवैये के कारण पूरे देश में आर्थिक तंगी का माहौल बना हुआ है।

 

मायावती ने लखनऊ में जारी एक बयान में नोटबंदी के एक साल पूरा होने पर कमेंट करते हुए कहा- "नोटबंदी का फैसला जल्दबाजी में लिया गया एक गलत निर्णय है। जिससे गरीब जनता को उस दिन से लेकर आज तक आर्थिक तंगी से गुजरना पड़ रहा है।"

उन्‍होंने कहा, मेरी भाजपा और पीएम मोदी को सलाह है कि "एंटी ब्लैक मनी डे" मनाने के स्थान पर, केवल इसको "नोटबन्दी माफी दिवस" के रूप में ही मनाना चाहिए, तो यह ज्यादा बेहतर होगा।

 

 

यही नहीं मायावती ने आगे कहा- नोटबन्दी का फैसला दिखावटी तौर पर देशभर में व्याप्त व्यापक भ्रष्टाचार को समाप्त करने हेतु लिया गया था, परन्तु लोगों को अधिकांशः दण्डित व प्रताड़ित करने वाला सरकारी भ्रष्टाचार हर स्तर पर कम होने के बजाय काफी बढ़ा है।

बीजेपी एण्ड कम्पनी के करीबी व खास बड़े लोगों के भ्रष्टाचार में एक के बाद एक पर्दाफाश होने से अब नरेन्द्र मोदी सरकार का भ्रष्टाचार का दिखावा भी लगातार फूटता जा रहा है। "पैराडाइज पेपर भाण्डाफोड़" इस बात का ताजा प्रमाण है।

 

दूसरी तरफ प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने नोटबंदी के एक साल पूरे होने पर सरकार पर हमला किया है। अखिलेश यादव ने अपने ट्विटर पर लिखा- "अर्थव्यवस्था की बदहाली, कारोबार-उद्योग की बर्बादी व देशव्यापी बेरोजगारी में नोटबंदी का जश्न दुखद है। ये नोटबंदी का एक बरस नहीं बरसी है।"

 

 

वहीं मुलायम की छोटी बहू अपर्णा यादव ने भी नोटबंदी को लेकर एक ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा- "नोटबंदी अच्छी थी या बुरी चुनावों के परिणाम देखकर कुछ नहीं कह सकते हैं।"

उन्‍होंने लिखा, कतार में लगकर लोगों की मौत हुई, लेकिन जीडीपी और अन्य परिणामों को देखकर कुछ नहीं कहा जा सकता है। मुझे लगता है इसे अभी और अधिक समय दिए जाने की आवश्यकता है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement