Home Up News President Ramnath Kovind Visits Chitrakoot Today

दावोस में कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो से मिले पीएम नरेंद्र मोदी

गुजरात निकाय चुनाव की तारीखें घोष‍ित, 17 को वोटिंग, 19 फरवरी को काउंटिंग

केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और सुरेश प्रभु ने की PM मोदी के भाषण की तारीफ

कुंदुली रेप पीड़‍िता द्वारा स्यूसाइड कर लेने के मामले में बीजेपी ने बुलाया ओडिशा बंद

मौसम ने मारी पलटी, शिमला में हुई बर्फबारी

चित्रकूट: राष्‍ट्रपति ने किया नाना जी देशमुख की प्रतिमा का अनावरण

UP | 08-Jan-2018 10:55:19 | Posted by - Admin
  • दिव्यांग यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह को करेंगे संबोधित
   
President Ramnath Kovind Visits Chitrakoot Today

दि राइजिंग न्‍यूज

चित्रकूट।

 

आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अपने एकदिवसीय दौरे पर चित्रकूट पहुंच गए हैं। यहां जगदगुरू रामभद्राचार्य दिव्यांग यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह को संबोधित करेंगे। यहां पहुंचते ही उन्‍होंने चित्रकूट के आरोग्यधाम में नाना जी देशमुख की प्रतिमा का अनावरण किया।

विश्वविद्यालय के कुलपति ने बताया, राष्ट्रपति यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह के मुख्य अतिथि होंगे और 579 छात्रों को मेडल प्रदान करेंगे।

 

 

राष्ट्रपति के साथ राज्यपाल राम नाइक और मध्य प्रदेश के राज्यपाल ओपी कोहली सहित केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद, यूपी परिवहन मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह भी उपस्थित रहेंगे। व्यस्तताओं के चलते यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ का कार्यक्रम स्थगित हो गया है, प्रोग्राम में एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान भी शामिल हो सकते हैं।

 

 

यहां भगवान राम ने वनवास काल के दौरान 11 साल 11 माह 11 दिन बिताए थे। उनके बाद नानाजी देशमुख ने यही पर आकर ग्रामोदय भारत की नींव रखी। एक भारतीय समाजसेवी से राजनेता बने नानी जी ने दीनदयाल उपाध्याय द्वारा ग्रामोदय भारत की परिकल्पना को साकार किया। नानाजी गांव-गांव जाकर गरीब आदिवासियों के बीच शिक्षा का महत्व बताया। इसके बाद चित्रकूट में ग्रामोदय विश्वविद्यालय की स्थापना की।

 

तत्कालीन राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने नानाजी और उनके संगठन दीनदयाल शोध संस्थान की प्रशंसा की। इस संस्थान की मदद से सैकड़ों गांवों को मुकदमा मुक्त विवाद सुलझाने का आदर्श बनाया गया। कलाम ने कहा था, चित्रकूट में मैंने नानाजी और उनके साथियों से मुलाकात की। दीनदयाल शोध संस्थान ग्रामीण विकास के प्रारूप को लागू करने वाला अनुपम संस्थान है।

 

 

दुनिया की पहली दिव्यांग यूनिवर्सिटी

जगद्गुरु रामभद्राचार्य दिव्यांग यूनिवर्सिटी (जराविवि) चित्रकूट धाम में स्थापित विश्वविद्यालय है। यह भारत ही नहीं दुनिया में दिव्यांगों के लिए पहला विशिष्ट विश्वविद्यालय है।

इसकी स्थापना वर्ष 2001 में जगदगुरु रामभद्राचार्य द्वारा हुई और इसे जगद्गुरु रामभद्राचार्य विकलांग शिक्षण संस्थान नामक एक संस्थान द्वारा संचालित किया जाता है।

 

 

यूनिवर्सिटी का सृजन यूपी सरकार के एक अध्यादेश द्वारा किया गया था, जो पश्चात् उत्तर प्रदेश विधायिका द्वारा उत्तर प्रदेश राज्यअधिनियम 32 (2001) के रूप में पारित किया गया। अधिनियम के अनुरूप जगदगुरु रामभद्राचार्य को विश्वविद्यालय के जीवनपर्यन्त कुलपति के रूप में नियुक्त किया गया।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news