Updates on Priyanka Chopra and Nick Jones Roka Ceremony

दि राइजिंग न्यूज़

वाराणसी।

 

सावन में काशी आने वाले श्रद्धालुओं के साथ मित्रवत व्यवहार रखने, संयम बरतने के सूबे के मुख्यमंत्री, डीजीपी और प्रमुख सचिव का आदेश पहले दिन काशी विश्वनाथ मंदिर के छत्ताद्वार गेट पर दम तोड़ता नजर आया। लाइन से अलग खड़ी कुछ महिलाओं को छत्ताद्वार के कमांडों ने वहां मौजूद पुरुष पुलिसकर्मियों की सहायता से जबरदस्ती पकड़ कर ढकेला और उन्हें कुछ दूर तक दौड़ाया भी।

 

इससे पहले काशी विश्वनाथ मंदिर के मुख्य अर्चक श्रीकांत मिश्रा मंदिर परिसर में पीएसी के जवानों ने पीट दिया। यह खबर फैलते ही सनसनी मच गई। मामला उच्चाधिकारियों तक पहुंचा तो वाराणसी प्रशासन में हड़कंप में मच गया। फिलहाल इस मामले को लेकर पंचायत जारी है।

सावन के पहले दिन ही मुख्यमंत्री के निर्देशों की इस तरह धज्जियां उड़ने पर कयासों का बाजार गरम है। चाय की अड़ी से लेकर चौक चौराहों पर पुलिस के बर्ताव पर चर्चा हो रही है। काशी विश्वनाथ मंदिर में पूर्व में भगदड़ के दौरान हुए हादसों के बावजूद इस तरह की लापरवाही से बड़ी घटना घट सकती थी।

 

बिना महिला पुलिसकर्मी के नियम को ताक पर रखते हुए सुरक्षा में लगे कमांडो और पुलिसकर्मियों ने ना सिर्फ महिलाओं को ढकेला बल्कि उनका हाथ पकड़-पकड़ के लाईन में से बहार निकाला और दूर तक झटक दिया।

बाबा दरबार में महिलाओं से दुर्व्यवहार करने पर कुछ लोगों ने आपत्ति भी दर्ज की। सावन के पहले दिन ऐसा बर्ताव वाराणसी पुलिस के सभी दावों की पोल खोलता नज़र आया। अब इंतजार है पुलिस के बड़े अधिकारियों का कि कब वो इस बात का संज्ञान लेते हैं।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll