Baaghi 2 Assistant Director Name Came in Physical Assault

दि राइजिंग न्‍यूज

सुल्तानपुर।

 

उत्‍तर प्रदेश के सुल्‍तानपुर जिले का नाम बदलने की कवायद तेज हो गई है। नगरपालिका चेयरमैन बबिता जायसवाल ने इलेक्शन के दौरान शहर की जनता से कहा था कि कुशभवनपुर हमारे लिए सिर्फ चुनावी जुमला या चुनावी वादा नहीं बल्कि हमारे लिए शान-सम्मान व स्वाभिमान का प्रतीक है। इसे अमली जामा पहनाते हुए उन्होंने बोर्ड में सुल्तानपुर का नाम बदलकर कुशभवनपुर करने का एजेंडा पास करा लिया है।

 

 

चेयरमैन बबिता ने कुशभवनपुर का एजेंडा नपा बोर्ड की प्रथम बैठक में पास कराकर सुल्तानपुर का नाम कुशभवनपुर करने की तरफ एक कदम मजबूती के साथ बढ़ाया है। वहीं, चेयमैन ने कुशभवपुर के एजेंडे को पास कराने के लिए सभासदों का आभार जताते हुए कहा है कि शासन स्तर पर भी कुशभवनपुर के लिए दमदार तरीके से पैरोकारी की जाएगी।

 

 

 

भाजपा प्रवक्ता विजय सिंह रघुवंशी ने कहा, नगरपालिका अध्यक्ष बबिता जायसवाल ने शपथ ग्रहण करने के पूर्व सीताकुंड घाट स्थित भगवान कुश की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर आशीर्वाद लिया था। तत्पश्चात् शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होकर यह जता दिया था कि कुशभवनपुर उनके लिए शान, सम्मान व स्वाभिमान का प्रतीक है।

 

 

बता दें कि इससे पहले प्रदेश के अंदर मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय किया गया था। तब ही से यहां जिले का नाम बदलने की सुगबुगाहट शुरु हो गई थी। कहा गया था के अयोध्या से सटे सुल्तानपुर जिले को भगवान श्रीराम के पुत्र कुश ने बसाया था और इसे कुशभवनपुर नाम से जाना जाता था।

यहीं सीताजी ठहरी थीं, उनकी याद में आज भी सीताकुंड घाट है। सुल्तानपुर के गजेटियर में भी इस बात का उल्लेख है कि इसका नाम कुशभवनपुर ही था।

 

 

वहीं नगर पालिका ईओ दुर्गेश त्रिपाठी ने बताया, चेयरमैन बबिता जायसवाल ने बोर्ड मीटिंग में जिले का नाम कुशभवनपुर रखे जाने का प्रपोज़ल रखा। जिसे सदस्‍यों ने स्वीकार किया है। अब आगे की कार्रवाई के लिए लिये शासन को लेटर भेजा जाएगा।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement