Pregnant Actress Neha Dhupia Shares Her Opinion on Pregnancy

दि राइजिंग न्‍यूज

बदायूं।

 

उत्‍तर प्रदेश में लगता है मानवता खत्‍म हो चुकी है। अस्‍पतालों में लगातार हो रही घटनाओं के बीच एक वाकया बदायूं में भी हो गया। यहां सोमवार को जिला अस्पताल में दो-दो शव वाहन होने के बावजूद एक व्यक्ति को अपनी पत्नी का शव कंधे पर लादकर ले जाना पड़ा। शर्मनाक यह है कि अस्पताल प्रशासन ने शव कुछ दूर ले जाने के लिए स्ट्रेचर तक नहीं उपलब्ध कराया।

यह मामला संज्ञान में आने पर डीएम ने सिटी मजिस्ट्रेट को जांच सौंपी है। देर शाम सिटी मजिस्ट्रेट ने अस्पताल पहुंच कर मामले की छानबीन शुरू कर दी।

इलाज के दौरान हो गई मौत

मूसाझाग थाना क्षेत्र के ग्राम मझारा निवासी सादिक की पत्नी मनीषा जिला अस्पताल में भर्ती थी। सोमवार दोपहर इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। इस पर सादिक ने जिला अस्पताल के सीएमएस से शव वाहन उपलब्ध कराने की मांग की। उन्हें यह भी बताया गया कि उसका गांव 25 किलोमीटर दूर है। सीएमएस डॉ. आरएस यादव को प्रार्थना पत्र भी लिखकर दिया। इसके बावजूद जिला अस्पताल प्रशासन की ओर से शव वाहन उपलब्ध नहीं कराया गया। आखिर में सादिक पत्नी का शव अपने कंधे पर लादकर ले गया। 

 

 

प्राइवेट वाहन में घर ले गए शव

इस संबंध में सिटी मजिस्ट्रेट संजय कुमार सिंह ने बताया कि महिला दोपहर करीब 12:45 पर जिला अस्पताल में भर्ती हुई थी। अपराह्न करीब 03:20 पर उसकी मौत हो गई। सीसीटीवी कैमरे के मुताबिक 03:55 पर शव वाहन आया था। इससे पहले सादिक पत्नी का शव ले गया। कुछ दूर जाकर उन्होंने प्राइवेट वाहन कर लिया, जिसमें शव रखकर अपने घर ले गए।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement