Rajashree Production Declared New Project After Three Years of Prem Ratan Dhan Payo

दि राइजिंग न्‍यूज

अयोध्‍या।

 

इस समय राम मंदिर मामले को लेकर राजनीति पूरी तरह चरम पर है। आध्यात्मिक गुरू श्री श्री रविशंकर मध्यस्थता कर रहे हैं और कई पक्षकारों से मुलाकात कर रहे हैं, लेकिन इसके बावजूद भी अलग-अलग आवाजें उठ रही हैं। हनुमान गढ़ी के महंत ज्ञान दास ने शुक्रवार को कहा कि राम मंदिर तो 2010 में ही बन जाता लेकिन हमारे साथ धोखा किया गया था।

 

 

उन्होंने बताया कि उस दौरान एग्रीमेंट पर सभी के दस्तखत हो गए थे, बस निर्मोही अखाड़े के दस्तखत रह गए थे। अशोक सिंघल, विनय कटियार और श्री श्री रविशंकर ने मना कर दिया था, जिसके बाद हमें एग्रीमेंट के कागज जलाने पड़े थे।

 

 

महंत ज्ञानदास ने आगे कहा कि श्री श्री ढोंगी पाखंडी हैं, वह दोहरी बात कर रहे हैं। हम उनके साथ बंगलुरू गए थे तो हमें अकेले में बुलाकर कहा गया कि मुसलमानों को आप क्यों बढ़ावा देते हैं, लेकिन बाद में हमनें देखा कि अपने दरबार में उन्होंने मुसलमानों को ऊंचे आसनों पर बिठा रखा था।

हमनें इस बात पर उनको बहुत डांटा था, ये दोगला चरित्र है। उन्होंने कहा कि कल जब वो हमसे मिलने आ रहे थे, इसलिए हमने मिलने से मना किया था।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement