Rajashree Production Declared New Project After Three Years of Prem Ratan Dhan Payo

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

योगी सरकार की नकल पर सख्‍ती के कारण यूपी बोर्ड की परीक्षा बीच में छोड़ने वाले छात्रों की संख्या लगातार बढ़ रही है, जहां पिछले तीन दिनों में छह लाख छात्रों ने परीक्षा छोड़ दी थी। वहीं अब छात्रों की संख्या बढ़कर 10 लाख 40 हजार हो गई है।

माना जा रहा है कि साइंस और मैथ्स की परीक्षा के दिन ये संख्या बढ़ सकती है, क्योंकि इन पेपर्स में अधिकतम छात्र अनुपस्थित होते हैं। छात्रों का लगातार यूं परीक्षा छोड़कर जाना यूपी सरकार के एजुकेशन सिस्टम पर सवाल खड़े कर रहा है।

 

 

बता दें, इस साल यूपी बोर्ड को लेकर सरकार की तरफ से काफी सख्ती की जा रही है। नकल रोकने के लिए राज्य सरकार ने सभी परीक्षा केंद्रों में सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं। सीसीटीवी कैमरे लगने के बाद असर साफ दिखाई दे रहा है। परीक्षा के पहले दिन 1.75 लाख से ज्यादा छात्रों ने परीक्षा छोड़ दी थी। दो दिनों में परीक्षा छोड़ने वाले छात्रों की संख्या पांच लाख से ज्यादा हो गई थी।

 

वहीं छात्रों की संख्या यहीं नहीं रुकी। तीन दिनों में छह लाख छात्रों ने परीक्षा छोड़ी, जिसके बाद परीक्षा के चौथे दिन 10 लाख 40 हजार छात्रों ने परीक्षा छोड़ दी है। ऐसे में लगातार छात्रों का परीक्षा का छोड़कर जाना गंभीर चिंता का विषय है।

66 लाख छात्र दे रहे हैं परीक्षा

यूपी बोर्ड की परीक्षा छह फरवरी से शुरू हुई थी, इसमें कुल 66 लाख से ज्यादा छात्र शामिल हो रहे हैं। इस बार 10वीं में 36,55,691 छात्र शामिल हैं और 12वीं में 29,81,327 छात्र शामिल हैं। परीक्षा छोड़ने में सबसे आगे हरदोई जिले के छात्र हैं, वहीं दूसरे नंबर पर आजमगढ़ के छात्र हैं। परीक्षा छोड़ने में 12वीं के छात्रों की संख्या अधिक बताई जा रही है।

सरकार की सख्ती का असर

सभी परीक्षा केंद्रों में सीसीटीवी कैमरे लगने के बाद छात्रों का यूं परीक्षा छोड़ कर जाना योगीराज में नकल पर नाकेबंदी का हैरतअंगेज असर माना जा रहा है। बता दें कि बोर्ड के पहले दिन 1.75 लाख से ज्यादा छात्रों ने परीक्षा छोड़ दी थी। दो दिनों में छात्रों की संख्या पांच लाख के पार हो गई थी। वहीं अब छात्रों की संख्या छह लाख हो गई है।

ऐसे में राज्य सरकार ने कहा है कि यूपी बोर्ड की परीक्षा को लेकर लगातार सख्ती बरती जा रही है और आगे भी जारी रहेगी।

8549 परीक्षा केंद्र, 22 टीमें गठित

यूपी बोर्ड में लगातार बढ़ती नकल की वजह से योगी सरकार ने परीक्षा से पहले कमर अच्छे से कस ली थी, जिसका असर साफ दिखाई दे रहा है। बोर्ड परीक्षा के लिए 8549 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। नकल रोकने के लिए 22 टीमें गठित की गई हैं। बता दें, आठ जेलों में भी करीब 200 से ज्यादा कैदी भी यूपी बोर्ड की परीक्षा दे रहे हैं।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement