Neha Kakkar Reveald Her Emotional Connection with Indian Idol

दि राइजिंग न्‍यूज

नोएडा।

 

इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग के सुप्रीटेंडेंट इंजीनियर राजेश्वर सिंह यादव के ठिकानों पर छापे मारे हैं। शुक्रवार सुबह सात शहरों में 20 से अधिक ठिकानों पर छापे पड़े हैं। अब तक हुई छापेमारी में करीब 200 करोड़ रुपए की संपत्ति के बारे में जानकारी जुटाई गई है। इसके अलावा दादरी में एक फैक्ट्री का पता चला है। वहां पर भी आयकर विभाग के टीम की जांच चल रही है।

शुक्रवार सुबह से चल रही छापेमारी में दिल्ली, नोएडा, फरीदाबाद और गाजियाबाद, एटा के ठिकानों पर इनकम टैक्स की टीम जांच कर रही है। राजेश्वर सिंह पर इनकम टैक्स विभाग को ये शक है की यादव सिंह और यूपी के दो बड़े राजनेताओं को पैसा मैनेज किया है।

 

 

राजेश्वर सिंह यादव के उत्तर प्रदेश के अनेक बड़े राजनेताओं से संबंध बताए जाते हैं। राजेश्वर सिंह दिल्ली स्थित आगरा कैनल ओखला ऑफिस में तैनात हैं। राजेश्वर सिंह की बड़े पैमाने पर प्रॉपर्टी और अवैध संपत्ति कमाने के शक में छापेमारी हुई है।

 

 

बता दें कि इससे पहले भी उत्तर प्रदेश में अधिकारी पर छापेमारी हो चुकी है। 954 करोड़ रुपये के टेंडर घोटाला मामले में आयकर विभाग ने यादव सिंह और उनकी पत्नी के परिसरों पर छापे मारे थे।

इनमें भारी मात्रा में नगदी, दो किलो सोना और हीरे के आभूषण बरामद हुए। विभाग ने उनके दर्जन से ज्यादा बैंक खातों और उनके द्वारा संचालित निजी फर्मों को भी अपनी जांच के दायरे में ले लिया।

 

 

हाल ही में एक आरटीआइ के जरिए खुलासा हुआ था कि पूर्व की अखिलेश यादव सरकार ने नोएडा के पूर्व इंजीनियर यादव सिंह मामले में सीबीआइ जांच से बचने के लिए सुप्रीम कोर्ट के बड़े वकीलों पर लगभग 21.15 लाख रुपये खर्च किये थे।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll