Priyanka Chopra Shares Her Experience of Health Issues

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

बसपा प्रमुख मायावती ने केंद्र सरकार द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो जारी करने पर सरकार को आड़े हाथों लिया है। उन्‍होंने शुक्रवार को कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो जारी करना सिर्फ लोगों को गुमराह करना है।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि सरकार ने अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए ऐसा किया है। सरकार के पास लोगों को अपनी उपलब्धियां बताने के लिए कुछ भी नहीं है, इसीलिए जनता का ध्यान इस मुद्दे से हटाने के लिए 2019 चुनाव के पहले ये कदम उठाया है।

मायावती ने तंज कसते हुए आगे कहा कि अगर उन्हें ये सुबूत पेश ही करना था तो उस समय क्यों नहीं किया जब सर्जिकल स्ट्राइक हुआ था। 

उन्‍होंने कहा कि बिना तैयारी के देश में "नोटबंदी" और "जीएसटी" जैसे फैसले को थोपने वाली मोदी सरकार खुद को हर मोर्चे पर विफल पा रही है। जनता से किये हुए वादों को निभाने में नाकाम होने के बाद बीजेपी सरकार जनता का ध्यान इन मुद्दों से हटाना चाहती है।

संत कबीरनगर का दौरा पीएम का चुनावी स्‍वार्थ

इस बयान से एक दिन पहले पीएम मोदी के संत कबीरनगर के दौरे को भी बसपा सुप्रीमो ने चुनावी स्वार्थ बताया था। उन्होंने कहा था कि पीएम मोदी ने चुनावी स्वार्थ में संत कबीर अकादमी का शिलान्यास कर पूर्वांचल की गरीब जनता की आंखों में धूल झोंकने का प्रयास किया है। उन्होंने कहा कि पूर्वांचल के समग्र विकास के लिए अलग पूर्वांचल राज्य बनाने के प्रस्ताव पर ठोस कार्यवाही की जानी चाहिए।

बसपा सरकार ने यह प्रस्ताव विधानसभा से पारित कर केंद्र सरकार को भेजा था, जो अब तक लंबित है। मायावती ने एक बयान में कहा कि मोदी ने पूर्वांचल के विकास के लिए बड़े-बड़े वादे व अच्छे दिन लाने के हसीन सपने दिखाए थे लेकिन उनका क्या हुआ? 24 करोड़ रुपये की संत कबीर अकादमी बननी है। लगभग उतनी रकम तो सरकार ने इसके प्रचार-प्रसार व इस कार्यक्रम के आयोजन में खर्च कर दी है जो एक जनविरोधी नमूना है। लोकसभा चुनाव के नजदीक मोदी सरकार को संत कबीर की याद आना वोट बैंक की स्वार्थी राजनीति नहीं तो और क्या है?

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement