FIR Registered Against Singer Abhijeet Bhattacharya For Misbehavior From Woman

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

उत्तर प्रदेश विधान परिषद चुनाव में सभी 13 उम्मीदवार निर्विरोध निर्वाचित हुए। निर्वाचित सदस्यों में बीजेपी के 10, अपना दल के एक, सपा और बसपा के एक-एक उम्मीदवार शामिल हैं। आज नामांकन वापस लेने की आखिरी तारीख थी, लेकिन किसी भी प्रत्याशी ने नामांकन वापस नहीं लिया। 13 सीटों के लिए केवल 13 उम्मीदवार ही मैदान में थे, इसलिए सभी उम्मीदवार निर्विरोध चुन लिए गए। इस मौके पर सीएम योगी ने बीजेपी प्रत्‍याशियों को बधाई दी।

बीजेपी की तरफ से विद्या सागर सोनकर, अशोक कटारिया, विजय बहादुर पाठक, अशोक धवन, बुक्कल नवाब, सरोजिनी अग्रवाल, यशवंत सिंह, जयविर सिंह, डॉ महेंद्र सिंह और मोहसिन रजा उच्च सदन पहुंचे हैं। अपना दल से पार्टी के प्रमुख आशीष सिंह, सपा से नरेश उत्तम और बसपा से भीमराव आंबेडकर उच्च सदन पहुंचे।

सीएम योगी ने दी बधाई

इस मौके पर सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने विधानसभा के सेंट्रल हॉल में मीडिया से बातचीत करते हुए सभी प्रत्‍याशियों को बधाई दी। उन्‍होंने कहा, 13 विधानपरिषद की सीटों पर निर्वाचन के लिए जो अधिसूचना जारी हुई थी, उस पर भाजपा और सहयोगी दल 11 पर निर्विरोध निर्वाचित घोषित हुए हैं, सभी को बधाई।

मुख्‍यमंत्री ने आगे कहा, मैं आशा करता हूं कि सभी सदस्य संविधान का निर्वहन करते हुए लोकतंत्र को मजबूत करने का काम करेंगे। पीएम मोदी के विजन से प्रदेश के विकास में अपना योगदान देंगे। उन्‍होंने कहा कि विधान परिषद की 13 रिक्त सीटों पर 11 में बीजेपी और सहयोगी दल विजय प्राप्त करने में सफल रहे हैं। सभी निर्वाचित एमएलसी को बधाई।

सपा और बसपा के एक-एक सदस्य

13 विधान परिषद सदस्यों का कार्यकाल पांच मई को समाप्त हो रहा है, जिसके बाद नव निर्वाचित सदस्यों का शपथ ग्रहण कार्यक्रम होगा। 13 में से बीजेपी के 10, सहयोगी अपना दल के एक, सपा के एक और बसपा के एक सदस्य हैं। 10 नए सदस्य चुने जाने के बाद उच्च सदन में बीजेपी के सदस्यों की संख्या 21 हो जाएगी। इसके बावजूद, उच्च सदन में बहुमत समाजवादी पार्टी के पास ही होगी।

अपना दल की तरफ से आशीष सिंह मैदान में

बीजेपी ने सहयोगी अपना दल को भी एक टिकट दिया है। अपना दल की तरफ से पार्टी के अध्यक्ष आशीष सिंह खुद उच्च सदन जा रहे हैं। इनके अलावा समाजवादी पार्टी की तरफ से पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम और बसपा की तरफ से भीमराव आंबेडकर को उच्च सदन भेजा जा रहा है।

भीमराव आंबेडकर को बसपा ने राज्यसभा प्रत्याशी के तौर पर उतारा था, लेकिन बीजेपी की चाल से बसपा के प्रत्याशी को हार का सामना करना पड़ा। जिन सदस्यों का कार्यकाल पांच मई को खत्म हो रहा है, उनमें पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी शामिल हैं।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll