Bhojpuri Film Balamua Tohre Khatir Will Release on 31 August

दि राइजिंग न्यूज़

लखनऊ।

 

समाजवादी पार्टी (SP) के मुखिया अखिलेश यादव ने चुनाव आयोग से ईवीएम को हटाकर बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग की है। साथ ही अखिलेश ने कहा कि वो इस मांग को लेकर “बैलेट सत्याग्रह” की तैयारी में हैं। अखिलेश ने ट्वीट में लिखा, “हमने फ़ैसला कर लिया है कि अगला चुनाव बैलेट पेपर से ही हो और हम चुनाव आयोग से इसकी मांग करेंगे। हम इस मांग को लेकर बैलेट सत्याग्रह तक करने को तैयार हैं। देश और लोकतंत्र के भविष्य के लिए हम सबसे अपील करते हैं कि वो EVM को हटाए जाने के लिए हमारा साथ दें।”

 

कांग्रेस भी कर चुकी है मांग

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी बैलेट पेपर से चुनाव कराने की बात कह चुके हैं। हाल ही में कांग्रेस ने अपनी वर्किंग कमेटी (CWC) की बैठक में भी इस मुद्दे को उठाया था। इस बैठक में पार्टी के वरिष्ठ मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि चुनावी प्रक्रिया में विश्वसनीयता सुनिश्चित करने के लिए बैलेट पेपर को दोबारा से वापस लाना चाहिए। उन्होंने कांग्रेस के संकल्प पर बोलते हुए कहा कि चुनाव आयोग को दुनिया के प्रमुख लोकतंत्रों की तरह भारत में भी बैलेट पेपर के द्वारा चुनाव करवाना चाहिए, ताकि चुनाव को लेकर लोगों में विश्वास बना रहे। उन्होंने कहा कि ईवीएम के दुरुपयोग को लेकर तमाम सवाल उठे हैं, जनता और राजनीतिक पार्टियों में ईवीएम के दुरुपयोग और उसके द्वारा चुनावों में हेरफेर को लेकर आशंकाएं हैं, इसलिए देश को बैलेट पर वापस लौटना चाहिए।

अन्य पार्टियों की भी यही मांग

कांग्रेस ही नहीं बल्कि विपक्ष की अन्य पार्टियों ने भी समय समय पर बैलेट पेपर से चुनाव की मांग को दोहराया है। हाल ही में आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने ईवीएम के द्वारा हुए चुनावों में जीत दर्ज करने के बाद भी बैलेट पेपर से चुनाव की मांग की थी। ऐसे में अगर अखिलेश बैलेट सत्याग्रह की ओर जाते हैं तो महागठबंधन की अन्य पार्टियों का भी सहयोग मिल सकता है, जिससे एक बार फिर विपक्ष को एक होने का मैका मिल जाएगा।

 

गठबंधन का फैसला अखिलेश पर

आगामी लोकसभा चुनाव में विपक्षी दलों का मजबूत गठबंधन बनाने की कोशिश में जुटी समाजवादी पार्टी (सपा) ने इन चुनावों में अन्य दलों से तालमेल और सीटों के बंटवारे के बारे में फैसला लेने के लिये पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव को अधिकृत किया है। शनिवार को हुई राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में यह फैसला लिया गया। सपा के प्रमुख महासचिव रामगोपाल यादव ने कहा, “वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में समझौते और सीटों के बंटवारे को लेकर सपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी ने राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को अधिकृत किया है। वह इस मामले में जो उचित समझेंगे, फैसला लेंगे।”

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll