FIR Registered Against Singer Abhijeet Bhattacharya For Misbehavior From Woman

दि राइजिंग न्‍यूज  

लखनऊ।

 

उत्‍तर प्रदेश में कैराना और नूरपुर उपचुनाव में मिली जीत के बाद पहली बार आरएलडी नेता जयंत चौधरी और एसपी अध्यक्ष अखिलेश यादव की मुलाकात हुई। लखनऊ के जनेश्वर मिश्र ट्रस्ट में दोनों नेताओं के बीच मुलाकात हुई। मुलाकात में दोनों ही नेताओं ने एक दूसरे की तारीफ में कसीदे पढ़े। जयंत चौधरी ने कहा कि अखिलेश ने बड़ा दिल दिखाया है और आज उन्हें धन्यवाद देने आया हूं।

वहीं, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि चौधरी साहब के सपनों को पूरा करने की जिम्मेदारी हमारी और जयंत की है और वो हम जरूर पूरा करेंगे। इस दौरान कैराना सांसद तबस्सुम हसन भी मौजूद थीं।

यही नहीं, अखिलेश ने बीएसपी के साथ गठबंधन के दौरान होने वाले सीट बंटवारे पर अपने ही अंदाज में जवाब दिया। बसपा को ज्यादा सीट देने के सवाल पर उन्होंने कहा, सीट के सवाल हैं, अभी हमारा झगड़ा मत कराओ। इसके बाद आरएलडी पार्टी दफ्तर में इफ्तार पार्टी का आयोजन किया गया।

इफ्तार पार्टी में नहीं शामिल हुई बसपा

लखनऊ में आरएलडी पार्टी दफ्तर में इफ्तार पार्टी का आयोजन किया गया। इस पार्टी में बसपा अध्यक्ष मायावती और सपा प्रमुख अखिलेश यादव को निमंत्रण दिया गया था, लेकिन दोनों ही इफ्तार में नहीं पहुंचे। सपा की तरफ से प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम और सुनील सजान मौजूद थे, जबकि कांग्रेस की तरफ से जीशान हैदर मौजूद थे। वहीं, बसपा की तरफ से कोई भी नेता इस पार्टी में नहीं पहुंचा।

जयंत चौधरी ने कसा मोदी पर तंज

आरएलडी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने योगी सरकार पर तंज कसते हुए कहा, मुगलसराय स्टेशन का नाम बदल दिया, अब मुगलई पराठे का नाम भी बदलेंगे। बुधवार (06 जून) को राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश कार्यालय पर नवनिर्वाचित सांसद तबस्सुम हसन के स्वागत में आयोजित समारोह में बोलते हुए जयंत ने कहा, जिनके हाथ में देश और प्रदेश की सत्ता है, उनके पास ताकत है, लेकिन हमारे साथ जनता और जनभावना है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll