Home Top News Terrorist Karim Tunda Sentence Life Time Imprisonment In Sonipat Bomb Blast Case

मथुरा: कोसी कलां में ट्रक और बाइक की भिडंत से 3 लोगों की मौत

इराक में गायब भारतीयों के डीएनए सेम्पल जुटाए जाएंगे

पंजाब: संगरूर के पटियाला रोड पर कई वाहनों के आपस में टकराने से 3 लोगों की मौत

कर्नाटक: बीजेपी ने सीएम सिद्धरमैया पर 418 करोड़ के कोयला घोटाले का आरोप लगाया

अमेरिकी विदेश मंत्री टिलरसन 24 अक्टूबर को भारत दौरे पर आएंगे

Trending :   #Hot_Photoshot   #Sports   #Politics   #Hollywood   #Bollywood
   

सोनीपत बम ब्लास्ट केस में आतंकी टुंडा को उम्रकैद

Home | 10-Oct-2017 13:45:37
Terrorist Karim tunda Sentence Life Time Imprisonment in Sonipat Bomb Blast Case

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

21 साल की लंबी लड़ाई के बाद बहुचर्चित सोनीपत बम ब्लास्ट केस में बड़ा फैसला आया है। इस फैसले में आतंकी अब्दुल करीम टुंडा को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। इसके साथ ही एक लाख रुपये का अर्थदंड भी लगाया गया है। साथ ही आदेश दिया गया कि अगर अर्थदंड नहीं भरा गया तो सजा एक साल के लिए बढ़ा दी जाएगी।

अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश डॉ. सुशील कुमार गर्ग ने सजा सुनाई। सोनीपत शहर में वर्ष 1996 में हुए सिलसिलेवार दो बम धमाकों के मामले में सोनीपत अदालत ने आतंकी टुंडा को सोमवार को 307 (हत्या का प्रयास), 120बी (षड्यंत्र रचना) व 3, 4 एक्सपलोजिव एक्ट (बम ब्लास्ट करना) के तहत दोषी करार दिया था।

 

कुछ ऐसा था उस दिन का मंज़र

 

सोनीपत में 28 दिसंबर 1996 को दो स्थानों पर बम ब्लास्ट हुए थे। उस दिन शाम 5:05 बजे पर पहला धमाका बस स्टैंड के पास स्थित बावा सिनेमा हाल में हुआ था। उसके महज दस मिनट बाद दूसरा धमाका गीता भवन चौक स्थित गुलशन मिष्ठान भंडार के बाहर हुआ था। धमाके में करीब एक दर्जन लोग घायल हुए थे। पुलिस ने इस संबंध में इंदिरा कॉलोनी निवासी सज्जन सिंह के बयान पर मामला दर्ज किया था।

सज्जन सिंह ने बताया था कि वह अपने साथी अनिल व विकास के साथ फिल्म देखने आया था। इस दौरान हुए धमाके में वह और 11 अन्य लोग घायल हुए थे। बाद में पुलिस ने इस संबंध में तीन आरोपियों उस समय गाजियाबाद व वर्तमान में जिला हापुड़ निवासी अब्दुल करीम टुंडा व उसके दो साथियों हापुड़ जिले के पिलखुआ निवासी शकील अहमद और दिल्ली के तेलीवाड़ा में अनार वाली गली निवासी मोहम्मद आमिर खान उर्फ कामरान को नामजद किया था।

 

पुलिस ने शकील और कामरान को वर्ष 1998 में गिरफ्तार कर लिया था, लेकिन टुंडा घटना के बाद फरार हो गया था। शकील व कामरान को अदालत ने वर्ष 2002 में सबूतों के अभाव में बरी कर दिया था। इसके बाद में अब्दुल करीम टुंडा को दिल्ली पुलिस ने अगस्त 2013 में नेपाल की सीमा से गिरफ्तार किया था। सोनीपत में चल रहे मामले में सभी 43 गवाही हुई और बहस कराई गई।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555


संबंधित खबरें



HTML Comment Box is loading comments...

Content is loading...





What-Should-our-Attitude-be-Towards-China


Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll


Photo Gallery
अब कब आओगे मंत्री जी । फोटो- अभय वर्मा

Flicker News



Most read news

 


Most read news


Most read news


sex education news


उत्तर प्रदेश

खेल-कूद


rising news video

खबर आपके शहर की