Actress Jhanvi kapoor  Shares The Image of Dhadak Sets on Social Media

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

चक्रवाती तूफान तितली उत्तरी आंध्र प्रदेश और दक्षिणी ओडिशा के तटीय इलाकों के बाद अब उत्तर की ओर बढ़ गया है। इस दिशा में पश्चिम बंगाल है। इन दोनों राज्यों के अलावा बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश में भी इस तूफान का असर पड़ने की आशंका है। बता दें कि ओडिशा के तटीय इलाकों में बुधवार की शाम से ही बारिश हो रही है। ओडिशा में इस तूफान से बचने के लिए तीन लाख लोगों को तटीय इलाकों से हटाकर सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है। तितली का लैंडफॉल ओडिशा के गोपालपुर से 86 किमी दक्षिण-पश्चिम में है।

 

दिल्ली में कैबिनेट सेक्रेटरी पीके सिन्हा ने बुधवार शाम को नेशनल क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक की। इस बैठक में तितली से निपटने के लिए किए उपायों की समीक्षा की गई। साथ ही राज्य सरकार और केंद्र की टीमों को हर हालात से निपटने को तैयार रहने के लिए कहा गया है।

मौसम विभाग ने दीघा, शंकरपुर, मंदरमणि और राज्य के अन्य तटीय क्षेत्रों में पर्यटकों से कहा गया है कि वे इस दौरान गहरे समुद्र में नहीं जाएं। साथ ही मछुआरों से कहा है कि वे पश्चिम बंगाल, ओडिशा के अपतटीय क्षेत्रों, बंगाल की उत्तरी और मध्य खाड़ी में 12 अक्टूबर तक समुद्र में न जाएं।

 

बंगाल के लिए मौसम विभाग का अलर्ट

मौसम विज्ञान विभाग ने तीन दिनों में चक्रवाती तूफान की वजह से दक्षिण बंगाल के छह जिलों में तेज हवा चलने और गरज के साथ तेज बारिश की चेतावनी जारी की है। मौसम विभाग ने कहा है कि तितली के गुरुवार को ओडिशा और आंध्रप्रदेश के तटीय इलाकों में पहुंचने के बाद यह गांगेय पश्चिम बंगाल की ओर बढ़ेगा। हालांकि, उन्होंने कहा कि मैदानी इलाकों में आने के बाद तूफान की तीव्रता लगातार कमजोर होती जाएगी।

अधिकारी ने कहा है, “चक्रवाती तूफान की वजह से 13 अक्टूबर तक पश्चिम बंगाल के जिलों में मध्यम दर्जे से लेकर भारी बारिश हो सकती है, जबकि तटीय जिलों जैसे पूर्व और पश्चिम मिदनापुर, उत्तर और दक्षिण 24 परगना, हुगली और हावड़ा में भारी बारिश होने की संभावना है। कोलकाता और हावड़ा में 12 व 13 अक्टूबर को अत्यधिक बारिश हो सकती है।”

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement