Actress katrina Kaif and Mouni Roy Visited Durga Puja Pandal

दि राइजिंग न्‍यूज

मुजफ्फरपुर।

 

मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामले में प्रशासन सख्‍त हो गया है। टीआइएसएस सामाजिक लेखा रिपोर्ट पर देरी से कार्रवाई करने के चलते सामाजिक कल्याण विभाग के सहायक निदेशक देवेश कुमार को निलंबित कर दिया है। वहीं, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मुजफ्फरपुर बालिका गृह केस में आरोपियों के खिलाफ आवाज बुलंद करने के बाद अब प्रशासन सख्त होता दिख रहा है।

अब इस मामले में राज्य के छह जिलों के अधिकारियों पर गाज गिरने की खबर है। यहां राज्यपाल के आदेश पर भोजपुर, भागलपुर, मुंगेर, मुजफ्फरपुर, अररिया और मधुबनी में बाल कल्याण संरक्षण इकाई के सहायक निदेशकों को निलंबित किए जाने की खबर आ रही है। 

सरकार पर दबाव के लिए एकजुटता

बता दें कि मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में 40 बच्चियों से रेप मामले को लेकर कांग्रेस और राजद सहित तमाम विपक्षी पार्टियों ने केंद्र की एनडीए सरकार को घेरने, दबाव बनाने के लिए कल जंतर मंतर पर एकजुटता दिखाई थी। इस कांड के खिलाफ जंतर-मंतर पर राजद के विरोध प्रदर्शन में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी शामिल हुए थे।

उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से दोषियों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की मांग की थी, वहीं तमाम विपक्ष ने केंद्र व बिहार सरकार पर दोषियों को बचाने का आरोप लगाया व जमकर प्रहार किया।

प्रदर्शन में ये लोग हुए शामिल

इस प्रदर्शन में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, राजद नेता तेजस्वी यादव व मीसा भारती, माकपा नेता सीताराम येचुरी, भाकपा के डी राजा और अतुल कुमार अंजान, लोकतांत्रिक जनता दल के शरद यादव तथा तृणमूल कांग्रेस के दिनेश त्रिवेदी जैसे प्रमुख नेता शामिल हुए। सभी नेताओं ने चेतावनी दी कि यदि दोषियों को तुरंत सजा नहीं दी गई तो जनता उनकी सरकार को उखाड़ फेंकेगी।

राहुल गांधी ने कहा कि नीतीश कुमार यदि सचमुच इस घटना से शर्मिंदा हैं तो उन्हें दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी होगी। भाजपा पर हमला करते हुए उन्होंने कहा, एक तरफ भाजपा-आएसएस है तो दूसरी तरफ पूरा देश। देश में अजीब माहौल बन गया है।

दोषियों को फांसी की सजा की मांग

महिलाओं, मजदूरों, आदिवासियों, अल्पसंख्यकों व कमजोरों पर आक्रमण हो रहे हैं। हम पूरे देश की महिलाओं के सम्मान के लिए आए हैं। इनके सम्मान के लिए हम एक इंच भी पीछे नहीं हटेंगे। लोगों को धमकाया दबाया जा रहा है। सभी ने एक सुर में दोषियों को फांसी की सजा की मांग की। उन्होंने पीड़ित बच्चियों के साथ खड़े होने का संदेश देने के लिए मोमबत्ती जलाकर एक मिनट का मौन रखा। इस मौके पर इंनेलोद के दुष्यंत चौटाला, आप के संजय सिंह और हिंदुस्तान अवाम पार्टी के जीतनराम मांझी भी मौजूद थे।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement