New Song of Sanju Ruby Ruby Released

दि राइजिंग न्यूज़

लखनऊ।

 

लखनऊ में छात्र नेता कन्हैया कुमार को जमकर विरोध का सामना शुक्रवार को करना पड़ा। कन्हैया कुमार अपनी लिखी पुस्तक बिहार टू तिहाड़ पर चर्चा करने लखनऊ लिटरेरी फेस्टिवल में पंहुचे। जहां पंहुचते ही पहले से मौजूद कुछ लोगों ने विरोध में नारे शुरू कर दिये। कन्हैया जब तक कुछ समझ पाते तक 15 से 20 लोग कन्हैया वापस जाओं के नारे लगाते हुए काफी करीब पंहुच गए। जहां कन्हैया के सिर और पीठ पर मारा भी गया। पुलिस के नाम पर सिर्फ एक अधिकारी था जो कन्हैया को बीच में ही छोड़ पुलिस फोर्स बुलाने को कहकर बाहर निकल गया।

(फोटो:अभय वर्मा)

कन्हैया को मंच तक पंहुचाने के बीच धक्का मुक्की और नारे बाजी होती रही। शाम तकरीबन सात बजकर दस मिनट पर ये सब शुरू हुआ था जो पौन घंटे चलता रहा। कन्हैया को स्टेज पर उनके साथ आए लोग घेरे खड़े रहे। वहीं नीचे विरोध करने आये लोग कन्हैया वापस जाओ, कन्हैया मुर्दाबाद के नारे लगाते रहे। काफी देर के बाद स्थानीय पुलिस अधिकारी मौके पर पंहुचे और विरोध करने वालों को खदेड़ा। इस बीच आयोजको और पुलिस ने कन्हैया को वापस जाने का कहा लेकिन कन्हैया ने कहा कि अगर मैं अपराधी हूं तो मुझे जेल ले जाओ। नहीं तो जो विरोध कर रहें हैं, उन लोगों को बाहर निकालिए।

(फोटो:अभय वर्मा)

मैं शहीद का बेटा, देशद्रोही न बोलो

 

कन्हैया का जब विरोध खत्म हुआ तो उन्होंने माइक संभालते हुए कहा कि देश और प्रदेश में सरकार आपकी है। इसके बावजूद भी अभी तक मुझ पर कोई आरोप पत्र दाखिल नहीं किये गए है। अगर विरोध करना है तो प्रधानमंत्री और गृहमंत्री का करो। अगर अपराधी हूं तो जेल के अन्दर डाल दो मुझे लेकिन उससे पहले मेरे परिवार के बारे में पता करो, मेरे परिवार वालों ने भी देश के लिए शहादत दी है। ऐसे में मुझे देशद्रोही कहने से पहले एक बार सोचो। इसके साथ ही कन्हैया ने प्रधानमंत्री पर भी अपने अंदाज में निशाना साधा।  

(फोटो:अभय वर्मा)

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll