Home Top News Relations Between Amitabh Bacchan Shubash Chandra Bose And Lal Bahadur Shastri

कांग्रेस दफ्तर के बाहर पटाखे फोड़कर जश्न मना रहे हैं कार्यकर्ता

J&K: त्राल में मिला जैश के एक आतंकी का शव, पाकिस्तान का नागरिक था

दिल्ली: विजय दिवस पर रक्षा मंत्री और सेना प्रमुख ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि

मिजोरम के हर घर में बिजली पहुंचाने का लक्ष्यः PM मोदी

दिल्ली: सोनिया गांधी के साथ कांग्रेस मुख्यालय पहुंचे राहुल गांधी

बोस और शास्‍त्री के रिश्‍तेदार हैं अमिताभ बच्‍चन!

Home | 01-Dec-2017 14:10:07 | Posted by - Admin
   
Relations Between Amitabh Bacchan Shubash Chandra Bose and Lal Bahadur Shastri

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

 

अमिताभ बच्चन, सुभाष चन्द्र बोस और लाल बहादुर शास्त्री ऐसे नाम हैं जिन्‍हें बच्‍चा-बच्‍चा जानता होगा। वैसे तो इन तीनों के बीच कोई खास कनेक्शन नहीं है लेकिन एक बात जानकर आप सोच में पड़ जाएंगे।दरअसल, एक रिसर्च में दावा किया गया है कि अमिताभ बच्चन, सुभाष चंद्र बोस और लाल बहादुर शास्त्री एक ही परिवार से ताल्लुक रखते हैं। हैरान रह गए ना आप।

 

इस शोध में ऐसा कहा जा रहा है कि बॉलीवुड स्टार अमिताभ बच्चन ने जया भादुड़ी से शादी की है जो कि बंगाली हैं। इस हिसाब से अमिताभ बंगाल के जमाई बन गए। ग्लोबल रिसर्चर्स की एक टीम ने यह पता लगाया कि अमिताभ बच्चन, भारत के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री और स्वतंत्रता सैनानी सुभाष चंद्र बोस आपस में रिश्तेदार हो सकते हैं। स्टडी के मुताबिक ये तीनों दिग्गज कई सौ सालों से एक ही परिवार के वंशज हो सकते हैं।

शोध के अनुसार ऐसा माना जाता है कि कन्नौज से पांच कुलीन कायस्थ करीब एक हजार साल पहले बंगाल में जाकर बस गए थे। इन लोगों को बाद में घोष, मित्रा, दत्ता, गुहा और बोस से पहचाना जाने लगा। इतना ही नहीं इन कुलीन कयास्थ के साथ-साथ पांच ब्राह्मण भी बंगाल में बस गए थे जो कि मुखर्जी और बनर्जी जैसी जातियों से जाने जाने लगे। अगर बंगाल के बोस और उत्तर प्रदेश के श्रीवास्तव की बात करें तो दोनों को एक ही परिवार का समझा जाता है। इसी कारण अमिताभ बच्चन, पूर्व प्रधानमंत्री और सुभाष चंद्र बोस के बीच दूर की रिश्तेदारी मानी जा सकती है।

 

बता दें कि यह शोध वर्तमान और बंगाली कूलीन कायस्थ परिवारों से संबंधित व्यक्तियों के एक छोटे समूह के ऐतिहासिक और वंशावली कार्यों के आनुवंशिक विश्लेषण के आधार पर किया गया है। इसी के साथ शोध में यह भी दावा किया गया है कि जब साल 1939 में सुभाष चंद्र बोस को इंडियन नेशनल कांग्रेस का फिर से पार्टी अध्यक्ष चुना गया तो उन्हें उत्तर प्रदेश से काफी वोट मिले थे। बोस को वोट देने वाले लोगों को उस समय यह नहीं पता था कि वह अपने ही किसी को वोट दे रहे हैं।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news




sex education news