Fanney Khan Promotional Event on Dus Ka Dum

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

कभी देश के सबसे अमीर लोगों में शुमार रेमंड लिमिटेड के मालिक रहे विजयपत सिंघानिया के बेटे गौतम सिंघानिया पर इलजाम है कि उसने उन्हें एक-एक पैसे का मोहताज बना डाला है। देश के बिजनेस घरानों की लड़ाई में अब विजयपत सिंघानिया और उनके बेटे गौतम सिंघानिया के बीच चल रहा ताजा संपत्ति विवाद भी जुड़ गया है।

रेमंड लिमिटेड के पूर्व मालिक 78 वर्षीय विजयपत सिंहानिया पैसे की किल्लत से जूझ रहे हैं। साउथ मुंबई के मालाबार हिल्स में उनका खुद का 36 मंजिला डुपलेक्स जेके हाउस है। हालांकि इसी में रहने के लिए उन्हें बेटे गौतम सिंघानिया के खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़नी पड़ रही है। विजयपत सिंघानिया ने बॉम्बे हाईकोर्ट में पिटीशन में अपने ड्यूपलेक्स घर का पज़ेशन मांगा है। आजकल जो विजयपत सिंघानिया मुंबई की सड़कों पर झोला उड़ाकर पैदल चलते दिखते हैं वो सिर्फ कुछ साल पहले तक 12 हजार करोड़ के मालिक थे। बेटे पर भरोसा करके सबकुछ उसके नाम कर देने का एडवेंचर में वो कंगाल हो चुके हैं।

विजयपत सिंघानिया का सफर


रेमंड कंपनी को आसमान की ऊंचाई तक ले जाने वाले शख्स हैं विजयपत सिंघानिया। एक जमाना था जब देश में टाटा और बिड़ला के बाद तीसरा सबसे बड़ा ब्रैंड रेमंड था। विजयपत सिंघानिया ने अपनी जिंदगी में एडवेंचर से बहुत प्यार किया। इसके कई किस्से तो दुनियाभर में मशहूर हैं। जैसे कि विजयपत ने 1988 में लंदन से मुंबई तक अकेले हवाई उड़ान पूरी की थी। पद्म भूषण से सम्मानित विजयपत ने “एन एंजल इन ए कॉकपिट” शीर्षक से किताब भी लिखी है।

एक जमाना था जब विजयपत सिंघानिया लंदन से अकेले प्लेन उड़ाकर भारत आ गए थे। 67 साल की उम्र में जब आदमी रिटायर होकर नाती पोतों के साथ खेलता है तब विजयपत सिंघानिया बैलून उड़ा चुके हैं। ये कहानियां तब की है जब विजयपत सिंघानिया कई हजार करोड़ के मालिक हुआ करते थे। ऐश्वर्य और विलास उनके कदम चूमती थी। वहीं साल 2005-06 में वो मुंबई के शेरिफ भी रह चुके हैं।

 

2000 में सौंपी बेटे को रेमंड की कमान


विजयपत के बेटे गौतम सिंघानिया ने 2000 में रेमंड की कमान संभाली और उसी के बाद से विजयपत के दुर्दिन शुरू हो गए। विजयपत सिंघानिया ने जीते जी 2015 में बेटे के गौतम सिंघानिया के नाम रेमंड में अपने एक हजार 41 करोड़ के 37.17 फीसदी शेयर कर दिए। आरोप हैं कि पिता की अकूत संपत्ति पाने के बाद बेटे गौतम सिंघानिया ने पिता को पाई-पाई के लिए मोहताज कर दिया।

जेके हाउस


देश के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया से भी ऊंचा है जे के हाउस। कभी इसी जेके हाउस में अरबपति इंडस्ट्रलिस्ट विजयपत सिंघानिया रहते थे लेकिन अब वो मुंबई की ग्रैंड पराडी सोसायटी में किराए के फ्लैट में रहते हैं। जिस कंपनी को उन्होंने बुलंदी तक पहुंचाया उसने उनसे कार और ड्राइवर तक छीन लिया और गुजारे के लिए के लिए फूटी कौड़ी तक देने को तैयार नहीं। विजयपत चाहते हैं कि उन्हें हर महीने 7 लाख रुपये गुजारे के लिए मिले। आरोप है कि बेटे की कंपनी बन चुकी रेमंड जेके हाउस के डुप्लेक्स में रहने के लिए पजेशन नहीं दे रही है। जिस मुंबई शहर के वो 2005-06 तक शेरिफ रहे उसी मुंबई में पाई पाई के लिए मोहताज हैं।

जिस घर के पज़ेशन के लिए याचिका दायर की गई है वह 1960 में बना था और तब 14 मंजिला था। बाद में इस बिल्डिंग के 4 ड्यूपलेक्स रेमंड की सब्सिडरी पश्मीना होल्डिंग्स को दे दिए गए। साल 2007 में, कंपनी ने इस बिल्डिंग को फिर से बनवाने का फैसला किया। डील के मुताबिक सिंघानिया और गौतम, वीनादेवी (सिंघानिया के भाई अजयपत सिंघानिया की विधवा), और उनके बेटों अनंत और अक्षयपत सिंघानिया को एक-एक ड्यूपलेक्स मिलना था। इसके लिए उन्हें 9 हजार प्रति वर्ग फीट की कीमत चुकानी थी। अपार्टमेंट में अपने हिस्से के लिए वीनादेवी और अनंत ने पहले से ही एक संयुक्त याचिका दायर की है। वहीं, अक्षयपत ने बॉम्बे हाईकोर्ट में एक अलग याचिका दायर की है।

जो विजयपत के साथ आज हो रहा है वही उनके भाई अजयपत सिंघानिया की मौत के बाद उनके परिवार के साथ हुआ। जेके हाउस में डुप्लेक्स घर के लिए विजयपत भी कोर्ट जा चुके हैं और अजयपत की पत्नी वीणा देवी, बेटे अनंत और अक्षयपत भी। गौतम सिंघानिया के खिलाफ अब तीनों ने मिलकर लड़ाई छेड़ी है।

क्या-क्या आरोप हैं गौतम सिंघानिया पर


हाईकोर्ट में सिंघानिया के वकील दिनयर मेडन ने कहा कि विजयपत इन दिनों पैसों की तंगी से जूझ रहे हैं। वहीं गौतम सिंघानिया रेमंड लिमिटेड को अपनी पर्सनल प्रॉपर्टी जैसे चला रहे हैं।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll