Neha Kakkar Reveald Her Emotional Connection with Indian Idol

दि राइजिंग न्यूज़

श्रीनगर।

 

देश में मॉनसून छाने लगा है। कई इलाकों में जमकर बारिश हो रही है। इसी कड़ी में जम्मू कश्मीर में भी जमकर बादल बरसे। भारी बारिश के कारण अमरनाथ यात्रा कुछ समय के लिए रोकी गई है। बारिश थमने तक श्रद्धालुओं को बालटाल और पहलगाम के नन वैन कैंप में रोका गया है।

 

बुधवार को रवाना हुआ था श्रद्धालुओं का पहला जत्था

बता दें कि श्रद्धालुओं का पहला जत्था बहुस्तरीय सुरक्षा घेरे में जम्मू के भगवती नगर आधार शिविर से रवाना हुआ था। इस जत्थे में कुल 1904 श्रद्धालु हैं, जिनमें 1554 पुरुष, 320 महिलाएं और 20 बच्चे शामिल हैं। आतंकी हमले के खतरे को देखते हुए सुरक्षा के इंतजाम काफी कड़े किए हुए हैं।

यात्रा की डिटेल्स

ये यात्री दिन में कश्मीर के गांदेरबाल स्थित बालटाल और अनंतनाग स्थित नुनवान, पहलगाम आधार शिविर पहुंचे थे। जिसके बाद ये तीर्थयात्री अगले दिन पैदल ही 3880 मीटर की ऊंचाई पर स्थित गुफा मंदिर के लिए रवाना हुए। इससे तीर्थयात्रा की शुरूआत हो जाएगी। यात्रा का समापन 26 अगस्त को होगा जिस दिन रक्षा बंधन भी है।

 

पिछले साल श्रद्धालुओं पर हुआ था हमला

गौरतलब है कि पिछले साल अमरनाथ यात्रा के दौरान हमला किया गया था, जिसके कारण इस बार सुरक्षा काफी बढ़ाई गई है। नए सुरक्षा नियमों के मुताबिक जो भी यात्री अमरनाथ यात्रा के दर्शन के लिए आ रहे हैं उनको अपनी गाड़ियों पर खास तरीके के आरएफआईडी टैग लगाने होते हैं।

भारी सुरक्षाबल तैनात

जब भी यात्री अपनी गाड़ियों के साथ या फिर काफिले में अमरनाथ यात्रा के लिए निकलते हैं तो रास्ते में सिक्योरिटीफोर्स कैंप के बाहर लगे आरएफआईडी रिसीवर के जरिये ये पता चल जाता है कि काफिले में कितनी गाड़ियां हैं और कोई गाड़ी यात्रा से अलग रास्ते पर तो नहीं निकल गई है।

 

देशभर से 2 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने दक्षिण कश्मीर हिमालय में स्थित अमरनाथ गुफा की यात्रा के लिए पंजीकरण कराया है। अधिकारियों ने बताया कि श्रद्धालुओं में साधु भी शामिल हैं। श्रद्धालुओं का देश के विभिन्न हिस्सों से यहां पहुंचना शुरू हो गया है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll