Actress katrina Kaif and Mouni Roy Visited Durga Puja Pandal

दि राइजिंग न्यूज़

कोलकाता।

 

असम में जारी हुए एनआरसी ड्राफ्ट के खिलाफ अब पश्चिम बंगाल में रेल रोको आंदोलन शुरू हो गया है। राज्य के उत्तर 24 परगना जिले में इस ड्राफ्ट के खिलाफ मतुआ महासंघ के लोग सड़कों पर उतर आए हैं। इलाके में तेज बारिश के बाद भी लोग रेल रोकने पहुंचे हैं। बड़ी संख्या में लोग रेलवे स्टेशन पहुंचकर ट्रेन के सामने खड़े हो गए, इस कारण यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

 

दूसरी तरफ राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी इस ड्राफ्ट के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने असम मामले पर कल यानी मंगलवार से ही दिल्ली में डेरा डाला हुआ है। वह विपक्ष और सत्ताधारी लोगों से मिलकर इस मामले पर बात कर रही हैं। वहीं बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायवती ने कहा ने कहा है कि भाजपा शासित आसाम में एनआरसी ड्राफ्ट के जरिए लगभग 40 लाख अल्पसंख्यकों की नागरिकता को अवैध करार दे दिया गया है। यदि लोग असम में लंबे समय से रह रहे हैं और वह अपनी नागरिकता का सबूत देने में सक्षम नहीं है तो इसका मतलब यह नहीं है कि उन्हें देश से बाहर फेंक दिया जाए।

वहीं ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि असम में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) की कवायद राजनैतिक उद्देश्यों से की गई ताकि लोगों को बांटा जा सके। उन्होंने चेतावनी दी कि इससे देश में रक्तपात और गृह युद्ध छिड़ जाएगा। भाजपा पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि यह पार्टी देश को बांटने का प्रयास कर रही है और इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

 

बनर्जी ने यहां एक सम्मेलन में कहा कि एनआरसी राजनैतिक उद्देश्यों से किया जा रहा है। हम ऐसा होने नहीं देंगे। वे (भाजपा) लोगों को बांटने का प्रयास कर रहे हैं। इस स्थिति को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। देश में गृह युद्ध, रक्तपात हो जाएगा। असम में रह रहे असली भारतीय नागरिकों की पहचान के लिये उच्चतम न्यायालय की निगरानी में चल रही व्यापक कवायद के तहत अंतिम मसौदा सूची में 40 लाख से अधिक लोगों को जगह नहीं मिली है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement