Loveratri First Song Release

दि राइजिंग न्‍यूज

नई दिल्‍ली।

 

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर राहुल गांधी ने निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि इस बयान ने देश के हर नागरिक का अपमान किया है, क्योंकि उनका बयान उन लोगों का अपमान करता है, जिन्होंने देश के लिए अपनी जान दी है।

राहुल गांधी ने कहा कि इस बयान ने राष्ट्रीय ध्वज का भी अपमान किया है, क्योंकि सेना का जवान इसे सलाम करता है। उन्होंने भागवत की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि हमारे देश के शहीदों और सेना का अपमान करने की वजह से भागवत पर शर्म आती है।

संघ ने दी सफाई

वहीं संघ की ओर से इस बयान पर सफाई आई है। आरएसएस प्रवक्ता मनमोहन वैद्य ने कहा है कि संघ प्रमुख के बयान को गलत तरीके से प्रस्तुत किया गया है। वैद्य ने कहा कि भागवत जी ने कहा था कि परिस्थिति आने पर तथा संविधान द्वारा मान्य होने पर भारतीय सेना को सामान्य समाज को तैयार करने के लिए छह महीने का समय लगेगा तो संघ स्वयंसेवकों को भारतीय सेना तीन दिन में तैयार कर सकेगी, कारण स्वयंसेवकों को अनुशासन का अभ्यास रहता है।

मनमोहन वैद्य बोले कि यह सेना के साथ तुलना नहीं थी पर सामान्य समाज और स्वयंसेवकों के बीच में थी, दोनों को भारतीय सेना को ही तैयार करना होगा।

क्या था भागवत का बयान?

रविवार को बिहार के मुज्जफरपुर में स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए मोहन भागवत ने कहा था कि देश को अगर हमारी जरूरत पड़े और हमारा संविधान और कानून इजाजत दे हम तुरंत तैयार हो जाएंगे। स्वयंसेवकों की कुव्वत का बखान करते हुए संघ प्रमुख ये भी कह गए कि सेना को तैयार होने में छह-सात महीने लग जाएंगे, लेकिन हम दो से तीन दिन में ही तैयार हो जाएंगे, क्योंकि हमारा अनुशासन ही ऐसा है।

बता दें कि राहुल गांधी कर्नाटक दौरे पर हैं और उन्होंने रायचुर में दरगाह का दौरा किया। इस दौरान उनके साथ कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया भी मौजूद रहे।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll