Crowd Rucuks At Sapna Chaudhary Program in Begusaray of Bihar

दि राइजिंग न्यूज़

गांधीनगर।

 

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री से किया हुआ सातवां सवाल अपने ट्विटर अकाउंट से डिलीट कर दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस ट्वीट मे दिए गए आंकड़े गलत थे। 

दरअसल, राहुल गांधी ने मंगलवार की सुबह ट्वीट कर केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला था। राहुल ने अपने इस ट्वीट में लिखा था कि जुमलों की बेवफाई मार गई, नोटबंदी की लुटाई मार गई, GST सारी कमाई मार गई, बाकी कुछ बचा तो- महंगाई मार गई, बढ़ते दामों से जीना दुश्वार, बस अमीरों की होगी भाजपा सरकार?

 

राहुल ने यह बात अपने सातवें सवाल के रूप में सामने रखी थी। इससे पहले वह एनडीए सरकार से छह सवाल पूछ चुके हैं। अपने छठे सवाल में राहुल ने बेरोजगारी का जिक्र करते हुए लिखा था कि भाजपा की दोहरी मार, एक तरफ युवा बेरोजगार, दूसरी तरफ लाखों फिक्स पगार और कॉन्ट्रेक्ट कर्मचारी बेजार, 7वें वेतन आयोग में रूपए18000 मासिक होने के बावजूद फिक्स और कॉन्ट्रेक्ट पगार रूपए5500 और रूपए10000 क्यों?

पहले पूछे थे ये सवाल

 

राहुल गांधी ने इससे पहले भाजपा से तीन और सवाल पूछे थे। तीसरे सवाल में राहुल ने लिखा था कि 2002-16 के बीच रूपए62,549 Cr की बिजली खरीद कर 4 निजी कंपनियों की जेब क्यों भरी? सरकारी बिजली कारखानों की क्षमता 62% घटाई पर निजी कंपनी से रूपए3/ यूनिट की बिजली रूपए24 तक क्यों खरीदी? जनता की कमाई, क्यों लुटाई?

 

राहुल ने अपने दूसरे सवाल में लिखा था कि 1995 में गुजरात पर कर्ज-9,183 करोड़, 2017 में गुजरात पर कर्ज-2,41,000 करोड़,  यानी हर गुजराती पर रूपए37,000 कर्ज। आपके वित्तीय कुप्रबन्धन व पब्लिसिटी की सजा गुजरात की जनता क्यों चुकाए?

अपने पहले सवाल में राहुल ने लिखा था कि 2012 में वादा किया कि 50 लाख नए घर देंगे, 5 साल में बनाए 4.72 लाख घर। प्रधानमंत्रीजी बताइए कि क्या ये वादा पूरा होने में 45 साल और लगेंगे?

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement