Ali Fazal to be a Part of Bharat

दि राइजिंग न्‍यूज

आउटपुट डेस्‍क।

 

बिहार बोर्ड की ओर से बुधवार को 12th के नतीजे जारी करते ही साइंस टॉपर कल्पना कुमारी को लेकर सवाल उठने लगे हैं। कल्पनी वही लड़की है, जिसने दो दिन पहले NEET में ऑल इंडिया टॉप किया है।

 

जानकारी के मुताबिक, कल्पना ने दो साल दिल्ली रहकर आकाश इंस्टीट्यूट से कोचिंग की थी। इसी दौरान उसने शिवहर के तरियानी में YKJM कॉलेज में एडमिशन लिया हुआ था। आपको बता दें कि बिहार बोर्ड एग्जाम्स में बैठने के लिए स्टूडेंट को 75 फीसदी अटेंडेंस शो करना होता है। अब सवाल ये है कि जब कल्पना कॉलेज ही नहीं गई, तो उसने 12th का एग्जाम कैसे दिया? मतलब साफ है कि इस टॉपर के लिए स्कूल ने बड़ा फर्जीवाड़ा किया हुआ है। इस पूरे मामले पर अभी तक बोर्ड की ओर से भी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। 

क्‍या है NEET

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) देश भर के सरकारी और प्राइवेट मेडिकल और डेंटल कॉलेज में एडमिशन के लिए NEET की परीक्षा लेती है।

 

दिल्‍ली में रहकर की तैयारी

कल्पना ने दिल्ली में रहकर इसकी तैयारी की। उसे 99.99 परसेंटाइल मिले हैं। कल्पना को फिजिक्स में 180 में से 171 अंक, केमिस्ट्री में 160 और बायोलॉजी में 360 में से 360 अंक मिले हैं।

डॉक्टर ही बनना था
10th तक जवाहर नवोदय विद्यालय से पढ़ाई करनेवाली कल्पना की इच्छा बचपन से ही डॉक्टर बनने की थी। कल्पना की बड़ी बहन भारती इंडियन इंजीनियरिंग सर्विस क्वालिफाई कर चुकी हैं, जबकि भाई आईआईटी गुवाहाटी में मेकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा है। कल्पना की घर में सबसे छोटी है।

 

रूबी राय मामला…

2016 में हाजीपुर की रहने वाली रूबी कुमारी ने आर्ट्स स्ट्रीम में टॉप किया था। लेकिन उसे अपने सब्जेक्ट के नाम तक ठीक से याद नहीं थे। फिल्मों की शौकीन तब की टॉपर रूबी से रिव्यू टेस्ट में कई सवाल पूछे गए थे, जिसके बाद साबित हो गया था कि उसने खुद अपनी कॉपी नहीं लिखी थी।

गौरतलब है कि पॉलिटिकल साइंस में 100 में 91 नंबर लाने वाली रूबी से जब पॉलिटिकल साइंस क्या है, पूछा गया तो उसका जवाब वह नहीं दे पाई थी। इसके अलावा पॉलीटिकल साइंस को 'प्रोडिकल साइंस' बोलने के कारण न सिर्फ रूबी का मजाक उड़ा था बल्कि बिहार की पूरी शिक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े हुए थे। बिहार इंटर टॉपर्स घोटाले में पुलिस को मिली एफएसएल की रिपोर्ट के मुताबिक, आर्ट्स टॉपर रूबी राय ने खुद कॉपी नहीं लिखी थी। रूबी के बदले किसी एक्सपर्ट ने यह कॉपी लिखी थी। इसके साथ ही हर आंसरशीट में नंबर को काट कर बदले गए थे। एसआईटी ने आर्ट्स टॉपर रूबी राय की कॉपियों की एफएसएल जांच कराई तो कॉपी में रूबी की हैंडराइटिंग नहीं मिली थी।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll