Home Top News PNB Fraud Case: ED Raids At Nirav Modi Locations

यूपी उपचुनाव: नूरपुर से सपा उम्मीदवार ने EC से दोबारा चुनाव कराने की मांग की

ओडिशा: बिजयंत जय पांडा ने BJD से इस्तीफा दिया

जेटली ने कुमार विश्वास के खिलाफ मानहानि का केस वापिस लिया

7 जून को नागपुर में RSS के कार्यक्रम में शामिल होंगे पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

रिटायर्ड जज नासिर-उल-मुल्क होंगे पाकिस्तान के केयरटेकर पीएम

PNB फ्रॉड केस: छापे के बाद नीरव मोदी का घर भी सील

Home | Last Updated : Feb 18, 2018 07:40 AM IST
  • पीएनबी से कहा- छह माह में लौटा दूंगा 6400 करोड़

PNB Fraud Case: ED Raids At Nirav Modi Locations


दि राइजिंग न्‍यूज

नई दिल्‍ली।

 

पीएनबी (पंजाब नेशनल बैंक) की मुंबई स्थित एक ब्रांच में 11360 करोड़ रुपए के फ्रॉड ट्रांजैक्शन मामले में गुरुवार को बड़ी कार्रवाई हुई है। इस मामले में अरबपति ज्वैलरी कारोबारी नीरव मोदी के खिलाफ एफआइआर दर्ज हो गई है। इस मामले में ईडी ने देशभर में कई जगह छापेमारी भी की है। छापेमारी के बाद सीबीआइ ने मुंबई के हाजी अली दरगाह के पास वर्ली में स्थित नीरव मोदी का घर भी सील कर दिया है।

नीरव मोदी ने पीएनबी को खत लिख कहा है कि वह सभी पैसे लौटाने को तैयार हैं। उन्होंने इसके लिए छह महीने का समय मांगा है। उन्होंने कहा है कि वह फायर स्टार डायमंड्स के जरिए पैसे लौटा दूंगा, जिसकी कीमत 6400 करोड़ रुपए है।

बता दें कि ईडी ने नीरव मोदी केस से जुड़ी नौ जगहों पर छापेमारी की। इनमें चार मुंबई, दो सूरत और दो दिल्ली में छापेमारी की गई। इस मामले में अरबपति ज्वैलरी डिज़ाइनर नीरव मोदी के खिलाफ एफआइआर दर्ज हो गई है। ये एफआइआर 31 जनवरी को दर्ज की गई थी। ईडी ने नीरव मोदी के शोरूम और घर में भी छापेमारी की है।

 

 

बुधवार को हुए खुलासे के बाद से ही जांच एजेंसियां एक्शन में आ गईं हैं। इस मामले में अरबपति आभूषण कारोबारी नीरव मोदी (46) ने कथित रूप से बैंक की मुंबई शाखा से धोखाधड़ी वाला गारंटी पत्र (एलओयू) हासिल कर अन्य भारतीय ऋणदाताओं से विदेशी ऋण हासिल किया था। पीएनबी ने इस मामले में दस अधिकारियों को निलंबित कर दिया है। साथ ही मामले को जांच के लिए सीबीआइ के पास भेज दिया है।

साज़िश रच दिया फ्रॉड ट्रांजैक्शन्स को अंजाम

बैंक का आरोप है कि नीरव, उनके भाई निशाल, पत्नी अमी और मेहुल चीनूभाई चोकसी ने बैंक के अधिकारियों के साथ साज़िश रची और फ्रॉड ट्रांजैक्शन्स को अंजाम दिया। पिछले हफ्ते भी सीबीआई ने नीरव मोदी के खिलाफ जांच करने की बात कही थी। बता दें कि नीरव मोदी की गिनती देश ही नहीं, बल्कि दुनिया के सबसे अमीर एंटरप्रेन्योर में होती है। वे पहले ऐसे कारोबारी हैं जिनका जिनका नाम ही उनका ब्रांडनेम बन गया है।

इस जालसाजी के सामने आने के बाद PMLA की धारा तीन के तहत मामला दर्ज किया गया है। वित्त मंत्रालय के निर्देश मिलने पर सीबीआइ ने भी मामला दर्ज कर लिया है। यही नहीं, सेबी भी न सिर्फ बैंक बल्कि शेयर बाजार में लिस्टेड कई कंपनियों के खिलाफ जानकारी छिपाने के मामले में जांच शुरू कर सकती है।

ऐसे होता था फर्जीवाड़ा

पीएनबी की मुंबई की एक शाखा का एक कर्मचारी हीरा कंपनियों को लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (LOU) प्रदान करता था ताकि वे दूसरे बैंकों से सेक्योर ओवरसीज कर्ज हासिल कर सकें। वित्तीय सचिव राजीव कुमार ने बताया, हीरा कंपनी यह एलओयू किसी अन्य भारतीय बैंक की विदेशी शाखा को देती थी। यह पूरा फर्जीवाड़ा करीब 11,400 करोड़ रुपये का है।

पीएनबी से हासिल इस एलओयू के आधार पर ही यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, इलाहाबाद बैंक, एक्सिस बैंक आदि ने हीरा कंपनियों को कर्ज दिया, लेकिन पकड़े जाने से बचने के लिए पीएनबी के कर्मचारी बैंक के रजिस्टर में एलओयू को दर्ज ही नहीं करते थे।



" जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555 "


Loading...


Flicker News

Loading...

Most read news


Most read news


rising@8AM


Loading...