FIR Registered Against Singer Abhijeet Bhattacharya For Misbehavior From Woman

दि राइजिंग न्‍यूज

नई दिल्‍ली।

 

आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेपाल दौरे का अंतिम दिन है। इस दौरान वह प्रसिद्ध मुक्तिनाथ मंदिर पहुंचे और देर तक पूजा-अर्चना की। उन्होंने मंदिर के पुजारी से हाथ में कलावा बंधवाया और जमीन पर बैठकर पूरे विधि-विधान से पूजा करते दिखाई दिये।

यही नहीं पूजा-अर्चना के बाद पीएम मोदी वहां मौजूद लोगों के बीच पहुंचे और उनके साथ मिलकर काफी देर तक ढोल भी बजाया। बता दें कि कल जानकी मंदिर में पूजा-अर्चना के दौरान उन्होंने मजीरा भी बजाया था। 

मुक्तिनाथ मंदिर में दर्शन करने वाले मोदी भारत के पहले पीएम हैं। यहां पूजा करने के बाद वह पशुपतिनाथ मंदिर भी जाएंगे। पशुपतिनाथ में उनका यह दूसरा दौरा होगा। बता दें कि शास्त्रों में प्राचीन काल से ही मुक्तिनाथ मंदिर का महत्व रहा है। यहां भगवान विष्णु की पूजा शालिग्राम रूप में होती है। यह मंदिर हिमालय में तीन हजार 700 मीटर से भी ज्यादा ऊंचाई पर मौजूद है।

काठमांडू को रेल मार्ग से जोड़ने का काम

गौरतलब है कि नेपाल यात्रा के पहले दिन पीएम मोदी ने दोनों देशों के विकास के लिए पांच “टी” ट्रेडिशन, ट्रेड, टूरिज्म, टेक्नोलॉजी और ट्रांसपोर्ट को सबसे जरूरी बताया था। भारत के शहर जयनगर और नेपाल के जनकपुर के बीच रेल निर्माण का काम इस साल पूरा होने की बात कहते हुए मोदी ने कहा था कि बिहार के रक्सौल होते हुए काठमांडू को रेल मार्ग से जोड़ने का काम भी तेजी से चल रहा है।

नेपाल की समृद्धि-खुशहाली चाहता है भारत

पीएम मोदी ने नेपाल यात्रा के पहले दिन कहा था कि नेपाल भारत से जलमार्ग के जरिये जुड़ेगा। यह परियोजना नेपाल के सामाजिक, आर्थिक परिवर्तन के लिए ही नहीं कारोबार के लिए भी अहम है। नेपाल और भारत के बीच कृषि क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने की बात कहते हुए मोदी ने कहा था कि तकनीक के बिना आज के दौर मे विकास संभव नहीं है।

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के “समृद्धि नेपाल, सुखी नेपाल”, और “सबका साथ, सबका विकास” अभियान को जोड़ते हुए मोदी ने कहा था कि भारत भी नेपाल की समृद्धि और खुशहाली चाहता है।

भारतीय क्षेत्र के विकास का फायदा नेपाल को भी

स्पेस टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में भारत आज विश्व के पांच देशों में एक है। पीएम मोदी ने कहा था कि पड़ोसी देश के लिए उपग्रह अंतरिक्ष में भेजने का वादा पिछले साल पूरा किया गया है। नेपाल से सटे पूर्व भारतीय क्षेत्र के विकास के लिए विशेष ध्यान देने की बात कहते हुए उन्होंने कहा कि सीमावर्ती भारतीय क्षेत्र का विकास होने से सीमावर्ती नेपाली क्षेत्र को भी फायदा मिलेगा।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll