Actress katrina Kaif and Mouni Roy Visited Durga Puja Pandal

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी होती जा रही है। ये बढ़ोतरी फिलहाल थमना मुश्क‍िल लग रही है क्योंकि कच्चा तेल 4 साल में सबसे महंगा हो गया है। गुरुवार को ब्रेंट क्रूड ने 80 डॉलर प्रति बैरल का आंकड़ा छू लिया है।

 

इसी के साथ कच्चा तेल पिछले 4 साल में सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच गया है। कच्चे तेल की कीमतों में आई इस रफ्तार के लिए ईरान की तरफ से आपूर्ति कम होने की आशंका को जिम्मेदार बताया जा रहा है।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में ब्रेंट क्रूड ने दोपहर 3:30 बजे 80.14 डॉलर प्रति बैरल का आंकड़ा छुआ है। इस महीने ब्रेंट क्रूड 5 डॉलर से ज्यादा महंगा हुआ है। वहीं, यूएस वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (WTI) क्रूड की कीमत भी 72.30 डॉलर का स्तर छू लिया है। यह भी नवंबर 2014 के बाद अपने सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच गया है।

 

अमेरिका के ईरान परमाणु समझौते से पीछे हटने के बाद ऐसी आशंका जताई जा रही है कि ईरान से होने वाली कच्चे तेल की आपूर्ति घट सकती है। इसकी वजह से कच्चे तेल की कीमतें लगातार आसमान पर पहुंच रही हैं।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी का सीधा असर घरेलू स्तर पर पेट्रोल और डीजल की कीमतों पर पड़ता है। दरअसल कच्चे तेल की कीमतें बढ़ने से तेल कंपनियों की लागत बढ़ जाती है। ऐसे में तेल कंपनियां अपना भार पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ाकर बांटती हैं। इससे आशंका जताई जा रही है कि पेट्रोल और डीजल कीमतों से फिलहाल राहत मिलने की उम्मीद ना के बराबर है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement