Home Top News Opposition Party Sets Mind To Name Meira Kumar For Presidential Election 2017 In India

तमिलनाडु के विलुपुरम में ट्रेन इंजन ने ट्रैक्टर को मारी टक्कर, कोई हताहत नहीं

OBC कोटे पर चेयरमैन नियुक्त होने के 12 हफ्तों बाद रिपोर्ट देगा कमीशन-जेटली

दिल्ली उपचुनाव: बवाना सीट पर 3 बजे तक 35.5% वोटिंग

वर्ल्ड चैंपियनशिप: सब्रीना जैकेट को हराकर सायना प्री क्वार्टर फाइनल में पहुंचीं

तीन तलाक पर 10 सितंबर को होगी ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की मीटिंग

Trending :   #Hot_Photoshot   #Sports   #Politics   #Hollywood   #Bollywood

दलित के बदले दलित…विपक्ष की ओर से मीरा कुमार

Home | 19-Jun-2017 05:13:33 PM
     
  
  rising news official whatsapp number

  • विपक्ष की ओर से पद के लिए मीरा कुमार का नाम लगभग तय  

opposition party sets mind to name meira kumar for presidential election 2017 in india

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।


बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने एनडीए के राष्ट्रपति पद उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन देने से मना कर दिए है। उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस करते हुए भाजपा पर आरोप लागते हुए कहा है कि कोविंद आरएसएस से जुड़े हैं इसीलिए उनका चयन किया गया है।


इसके साथ साथ उन्होंने कहा है कि अगर विपक्ष रामनाथ कोविंद से बड़ा चेहरा उतारेगी तो उसको बसपा की तरफ से समर्थन मिलेगा।


मायावती के साथ-साथ कांग्रेस ने भी कोविंद के समर्थन से इंकार करते हुए कहा है कि यह फैसला एनडीए तरफ से एकतरफा लिया गया है।  


एनडीए की ओर से राष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद का नाम सामने आने के बाद विपक्ष की ओर से पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार का नाम तय माना जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक दलित होने के चलते मीरा कुमार की उम्मीदवारी पक्की मानी जा रही है।


विपक्ष की ओर से राष्ट्रपति उम्मीदवार पर चर्चा के लिए 22 जून को बैठक बुलाई गई है। माना जा रहा है कि इसी बैठक में मीरा कुमार के नाम पर मुहर लग सकती है। मीरा कुमार पांच बार से सांसद हैं और दिग्गज कांग्रेस नेता बाबू जगजीवन राम की बेटी हैं।


एनडीए का उम्मीदवार एकतरफा फैसला: कांग्रेस


एनडीए के राष्ट्रपति उम्मीदवार पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस नेता गुलान नबी आजाद ने कहा, ”बीजेपी की ओर बनाई गई कमेटी के नेता हमसे मिले थे।हमारी इस बैठक में सोनिया जी, मैं और लोकसभा में हमारे नेता मल्लिकार्जुन खड़गे जी थे। हमने सोचा कि उनके पास कोई नाम होगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। बीजेपी ने हमें कोई उम्मीदवार कान नाम ही नहीं बताया था तो फिर चर्चा कैसी।


गुलाम नबी आजाद ने कहा, ”सरकार ने सहमति से फैसला नहीं लिया। अपना कैंडिडेट तय करने के बाद बताया। इससे सहमति कहां बनती है। ऐसे आम राय नहीं बनती। ये एकतरफा फैसला है।


विपक्ष के उम्मीदवार को लेकर गुलान नबी आजाद ने कहा, ”हमारा शुरू से ये फैसला रहा है कि विपक्षी दल मिलकर सहमति बनाएंगे। कुछ हफ्ते पहले सोनियाजी ने 18 दलों को भोजन पर बुलाया था कि सभी मिलकर राष्ट्रपति पद के कैंडिडेट पर फैसला लेंगे। एक सबग्रुप बनाया गया। सबग्रुप की मीटिंग भी हुई।


यह भी पढ़ें

सवालों पर भड़के लालू, दे डाली गाली 

सलमान का जंग पर बड़ा बयान, पढ़िए क्‍या कहा

"नौकरी नहीं, दोषियों पर कार्रवाई चाहिए"

..तो मोदी के सामने झुक गए केजरीवाल!

झारखंड में अब एक रुपये में होगी रजिस्‍ट्री

राहुल को इतनी जल्‍दी नानी याद आ गईं

सुनिए नवाज़ शरीफ का जवाब..... 

ट्रम्प हुए 71 साल के,पद संभालते ही बन गए थे 

कहीं ये पाक सेना प्रमुख के आदेश तो नहीं...!

ऐसी क्‍या मजबूरी थी कि ऑटो से घर गए सलमान

टीनऐज में ऐसे दिखते थे आपके पसंदीदा स्टार्स



जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

संबंधित खबरें

HTML Comment Box is loading comments...

 


Content is loading...



What-Should-our-Attitude-be-Towards-China


Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll



Photo Gallery
धार्मिक आस्था- सर्प का दुग्धाभिषेक | फोटो- कुलदीप सिंह

Flicker News


Most read news

 



Most read news


Most read news


खबर आपके शहर की