Sooraj Pancholi to donate his earnings from satellite shankar to army

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

एनआइए की विशेष अदालत ने मक्का मस्जिद विस्फोट (2007) से जुड़े मामलों में आज फैसला सुना दिया। कोर्ट ने असीमानंद समेत सभी आरोपियों को बरी कर दिया है। जानकारी के लिए बता दें कि इस धमाके में नौ लोगों की मौत हो गई थी। एनआइए मामलों की चतुर्थ अतिरिक्त मेट्रोपोलिटन सत्र सह विशेष अदालत ने सुनवाई पूरी कर ली थी और पिछले हफ्ते फैसले की सुनवाई 16 अप्रैल तक के लिए टाल दी गई थी।

ऐसा था मंजर

18 मई 2007 को जुमे की नमाज के दौरान ऐतिहासिक मक्का मस्जिद में हुए विस्फोट में नौ लोगों की मौत हो गई थी और 58 लोग घायल हुए थे। स्थानीय पुलिस की शुरुआती छानबीन के बाद मामला सीबीआइ को स्थानांतरित कर दिया गया था।

 

दस आरोपियों में से एक की मौत

इस मामले में सीबीआइ ने एक आरोपपत्र दाखिल किया। इसके बाद 2011 में जांच एजेंसी से यह मामला राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) के पास गया। धमाके में स्वामी असीमानंद समेत कुल दस लोगों पर आरोप लगा था, एक आरोपी की मौत हो चुकी है।

केस में आरोपियों के नाम

  • स्वामी असीमानंद

  • देवेंदर गुप्ता

  • लोकेश शर्मा (अजय तिवारी)

  • लक्ष्मण दास महाराज

  • मोहनलाल रातेश्वर

  • राजेंदर चौधरी

  • भारत मोहनलाल रातेश्वर

  • रामचंद्र कलसांगरा (फरार)

  • संदीप डांगे (फरार)

  • सुनील जोशी (मृत)

जब मुकर गए 64 गवाह

इस मामले में अब तक कुल 226 चश्मदीदों के बयान दर्ज किए गए थे और कोर्ट के सामने 411 दस्तावेज पेश किए गए। NIA को इस केस की जांच में काफी मुश्कलों का सामना करना पड़ा, क्योंकि 64 गवाह कोर्ट के सामने मुकर गए, जिनमें लेफ्टिनेंट कर्नल श्रीकांत पुरोहित और झारखंड के मंत्री रणधीर कुमार सिंह भी शामिल हैं।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement