Home Top News New Railway Minister Piyush Goel Statement Over The Bullet Train

तेलंगाना: हाकिमपेट में चॉपर दुर्घटनाग्रस्त, महिला कैडेट घायल

गुरुग्रामः अरावली में तेंदुए की संदिग्ध हालत में मौत, चोट के निशान मिले

आतंकी हाफिज सईद ने फिर अलापा कश्मीर राग, कहा- जारी रहेगी लड़ाई

नाक, गला काटने पर इनाम देने वाले की आलोचना राष्ट्रविरोध तो नहीं-जावेद अख्तर

दिल्ली: ACB चीफ मुकेश मीणा को मिजोरम ट्रांसफर किया गया

2022 में भारतीयों को मिलेगी बुलेट ट्रेन: रेल मंत्री

Home | 12-Sep-2017 12:58:22 PM | Posted by - Admin

   
New Railway minister Piyush Goel Statement over the Bullet Train

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के पीएम शिंजो आबे गुरुवार को अहमदाबाद में हाईस्पीड बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की शुरुआत करेंगे। इस बारे में जानकारी देते हुए रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि इस प्रोजेक्ट को पूरा करने का टारगेट अब भी दिसंबर 2023 ही है, लेकिन हम इसे 15 अगस्त, 2022 तक खत्म करने की कोशिश करेंगे। हमें उम्मीद है कि 2022 तक भारत को पहली बुलेट ट्रेन मिल जाएगी। उन्होंने कहा कि 14 सितंबर को 160 साल पुरानी भारतीय रेल में बदलाव होने जा रहा है।

ये ट्रेन देश की आर्थिक तरक्की को और स्पीड देगी...

 

रेल मंत्री पीयूष गोयल और रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने बताया- "गुरुवार को भारतीय रेल दुनिया की एडवांस टेक्नोलॉजी से जुड़ेगी और देश की आर्थिक तरक्की को और स्पीड देगी। भारतीय रेल पिछले चार-पांच दशकों से उस तकनीक से चल रही है, जो ज्यादातर विकसित देशों में खारिज की जा चुकी है। भारत में शिन्कान्सेन टेक्नोलॉजी आने से भारतीय रेलवे को दिशा और दशा बदल जाएगी।"

 

उन्होंने बताया- "जापान ने बहुत ही सस्ते रेट्स यानी 0.1% इंट्रेस्ट पर 50 साल के पीरियड के लिये करीब 88 हजार करोड़ रुपए का लोन दिया है, जो लगभग मुफ्त पड़ेगा। इसके साथ टेक्नोलॉजी ट्रांसफर के जरिए से भारत में मेक इन इंडिया के तहत सस्ती बुलेट ट्रेनें बनेंगी। इन्हें बाद में एक्सपोर्ट भी किया जा सकेगा और पैसा कमाया जा सकेगा।"

"बुलेट ट्रेन की लागत में कमी आने से इस टेक्निक से भारतीय रेल नेटवर्क को भी अपडेट किया जा सकेगा। इस प्रकार से यह प्रोजेक्ट भारतीय रेलवे की सूरत बदलने वाला होगा।"

 

इससे कई फैसिलिटी मिलेंगी

 

रेल मंत्री ने बताया- "508 किलोमीटर लंबी लाइन पर 350 किलोमीटर की स्पीड से चलने वाली पैसेंजर ट्रेन के अलावा फल, फूल, सब्ज़ी, दूध और दूसरे जल्द खराब होने वाले सामान को भी लाने ले जाने के लिये हाईस्पीड मालगाड़ियों को चलाया जाएगा।"

आज की जरूरत है बुलेट ट्रेन

 

यह पूछे जाने पर कि भारतीय रेल आज एक्सीडेंट की वजह से जानी जा रही है, ऐसे में बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट कितना सही फैसला होगा। गोयल ने कहा कि 160 साल पुराने रेल सिस्टम को पूरी तरह से बदलने की जरूरत है। बुलेट ट्रेन टेक्नोलॉजी भारतीय रेलवे को यह अवसर मुहैया कराएगी।

 

उन्होंने कहा कि ये वैसा ही जब 1970 में मारुति सुजुकी को लॉन्च किया था। इसके बाद भारत का ऑटोमोबाइल सेक्टर में बदल गया था।

एक नजर में बुलेट ट्रेन

 

  • मुंबई से अहमदाबाद के बीच चलेगी।

  • 07 किमी रूट समुद्र के नीचे होगा।

  • 508 किमी कुल रूट होगा बुलेट ट्रेन का।

  • 350 किमी/घंटे अधिकतम रफ्तार होगी।

  • 12 स्टेशन मुंबई से अहमदाबाद के बीच होंगे। हर स्टेशन पर 2.45 मिनट का स्टाॅप।

  • कुल 21 किमी लंबा सुरंग मार्ग ठाणे-मुंबई के बीच, जिसमें से 7 किमी मार्ग समुद्र के नीचे होगा।

  • रेलवे के मुताबिक पहले हफ्ते से ही रोज 36000 यात्री सफर करेंगे।

  • बई-अहमदाबाद की मौजूदा 6-7 घंटे की यात्रा बुलेट ट्रेन से 2.07 घंटे की रह जाएगी।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555



संबंधित खबरें



HTML Comment Box is loading comments...

Content is loading...




गैजेट्स

TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll


What-Should-our-Attitude-be-Towards-China


Photo Gallery
गोमती तट पर दीप आरती करती महिलाएं। फोटो- अभय वर्मा



Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news


sex education news