Ayushman Khurrana Wants To Work in Kishore Kumar Biopic

दि राइजिंग न्यूज़

मुंबई।

 

महाराष्ट्र में मूक मोर्चे के बाद अब मराठा आंदोलन हिंसक हो गया है। आंदोलनकारी सूबे के अलग-अलग जिलों में प्रदर्शन कर रहे हैं। सोमवार को एक युवक ने गोदावरी नदी में कूद कर अपनी जान दे दी। वहीं, परभणी में प्रदर्शनकारियों ने सरकारी बसों को आग के हवाले कर दिया। बस फूंके जाने से कई यात्री घायल हो गए, जिन्हें परभणी के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मराठा क्रांति मोर्चा ने आज महाराष्ट्र बंद का आह्वान किया है। जिसका असर दिखना शुरू हो गया है।

 

जब हिंसक हो उठा आंदोलन

मराठा आरक्षण की मांग को लेकर एक 28 वर्षीय युवक काका साहेब दत्तात्रय शिंदे औरंगाबाद के सिल्लोड तालुका स्थित कयगांव टोक में गोदावरी नदी में कूद गया। शिंदे गंगापुर तालुका के कानडगांव का निवासी था। उसे नदी से निकालकर अस्पताल पहुंचाया गया जहां उसने दम तोड़ दिया। शाम तक मिली जानकारी के अनुसार उसके परिजनों ने मुख्यमंत्री फडणवीस के इस्तीफे की मांग करते हुए शव कब्जे में लेने से मना कर दिया है।

पुलिस ने की गिरफ़्तारी

परभणी में बस फूंके जाने की घटना में पुलिस ने करीब 25 लोगों को गिरफ्तार किया है। कहा जा रहा है कि मराठा आंदोलन में सूबे के ही कुछ नेताओं ने बयान देकर आग में घी डालने की कोशिश की है जिससे युवा उग्र हो उठे हैं। मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने मुख्यमंत्री फडणवीस पर मराठों को गुमराह करने का आरोप लगाकर चिंगारी भड़का दी है।  

 

16 प्रतिशत आरक्षण चाहते हैं मराठा

मराठा समाज अन्य पिछड़ा वर्ग के तहत सरकारी नौकरियों और शिक्षा में 16 प्रतिशत आरक्षण चाहते हैं। इसको लेकर पिछले साल मराठा समाज ने तकरीबन हर जिलों में मूक मोर्चा निकालकर सरकार को चेतावनी दी थी लेकिन, अब इस मांग को पूरा करने के लिए विरोध प्रदर्शन और रैलियों का सिलसिला तेज हो गया है। फिलहाल, मराठा आरक्षण का मामला बांबे हाईकोर्ट में लंबित है।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement