Pregnant Actress Neha Dhupia Shares Her Opinion on Pregnancy

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

एक-दूसरे को ख़त्म करने की कसमें खाने वाले कट्टर दुश्मनों ने आज सारी दूरियां मिटाकर एक दूसरे से हाथ मिलाया है। इस सदी की सबसे चर्चित शिखर वार्ता के तहत अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग-उन ने सिंगापुर के सेंटोसा द्वीप में पहली बार हंसकर एक-दूसरे से बात की है।

 

मुलाकात के दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उम्मीद है हम दोनों के संबंध अच्छे रहेंगे। सबकुछ भुलाकर अब हम आगे बढ़ेंगे। इस दौरान किम जोंग उन ने कहा कि यहां तक पहुंचना आसान नहीं था। हमने सबकुछ भुलाकर यह मुलाकात की है। दोनों नेताओं के बीच करीब 50 मिनट तक मुलाकात हुई।

अमेरिकी राष्ट्रपति और उत्तर कोरियाई नेता के बीच हुई इस मुलाकात के बाद माना जा रहा है कि ट्रंप और किम के बीच बेहद तल्ख रहे रिश्तों में बदलाव आएगा। दोनों नेताओं के बीच वन-ऑन-वन मुलाकात खत्म हो गई है। अब दूसरे दौर की प्रतिनिधिमंडल स्तर की बैठक जारी है।

 

लाइव अपडेट्स

  • सिंगापुर: अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की बैठक जारी।

  • ट्रंप के साथ मुलाकात के बाद उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन ने कहा, “हमने इस शिखर सम्मेलन के बारे में सभी संदेह और अटकलों को पार किया और मैं मानता हूं कि यह शांति के लिए अच्छा है।”

  • किम के साथ 50 मिनट तक चली बातचीत के बाद ट्रंप ने कहा, “हमारी बातचीत अच्छी रही।”

कौन कहां ठहरा है

ट्रंप पांच सितारा शांगरिला होटल में ठहरे हैं जबकि किम उनसे आधे किमी की दूरी पर पांच सितारा सेंट रेजिस होटल में रुके हैं।

 

सौ करोड़ का खर्च

सिंगापुर में ट्रंप-किम शिखर सम्मेलन पर लगभग 100 करोड़ रुपये का खर्च आने का अनुमान है। इसमें सुरक्षा खर्च भी शामिल है। यह पूरा खर्च सिंगापुर की सरकार वहन कर रही है।

शिखर वार्ता से पहले अगली बैठक का न्योता

ट्रंप के साथ शिखर वार्ता से पहले ही किम ने उन्हें जुलाई में दूसरी बैठक के लिए उत्तर कोरिया आने का न्योता दिया है। दक्षिण कोरिया के एक अखबार के मुताबिक शिखर वार्ता में अगर परमाणु निरस्त्रीकरण पर सहमति बनती है तो जुलाई में दोनों नेताओं की बैठक हो सकती है। इसके बाद दोनों के वाशिंगटन में तीसरी बार मिलने की संभावना है।

 

25 साल पहले भी हुई थी एक चर्चित शिखर वार्ता

अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन की पहल पर इस्राइली प्रधानमंत्री इत्जाक राबिन और फलस्तीन नेता यासिर अराफात के बीच एक शिखर वार्ता हुई थी, जिसकी पूरी दुनिया में चर्चा हुई थी। दोनों दुश्मन देश इस शिखर वार्ता में शांति स्थापित करने और एक-दूसरे के अस्तित्व को स्वीकर करने पर सहमत हुए थे।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement