Neha Kakkar Reveald Her Emotional Connection with Indian Idol

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

साल 2012 में दिल्ली में हुए निर्भया गैंगरेप केस में सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है। इस केस के चार आरोपियों में से तीन की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज करते हुए उनकी फांसी की सजा बरकार रखी है। फैसले से पहले निर्भया का परिवार अपने वकील के साथ कोर्ट में पहुंचा था। निर्भया के माता-पिता ने कड़ी से कड़ी सजा देने की अपील की थी।

Live Updates:-

  • दोषियों की फांसी की सजा बरकार। विनय, मुकेश और अक्षय को होगी फांसी।

  • जस्टिस अशोक भूषण ने कहा, “आपराधिक मामलों में रिव्यू तभी संभव है, जब कानून में कोई स्पष्ट गलती हो।”

  • पुनर्विचार याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज।

  • निर्भया के माता-पिता और वकील कोर्ट रूम में पहुंचे।

निर्भया के गुनहगार, जिन्हें होगी फांसी की सजा

  • मुकेश सिंह- मुकेश बस का क्लीनर था। जिस रात बस में गैंगरेप की यह घटना हुई थी उस वक्त मुकेश सिंह भी बस में सवार था। गैंगरेप के बाद मुकेश ने निर्भया और उसके दोस्त को बुरी तरह पीटा था। मुकेश सिंह अभी तिहाड़ जेल में बंद है।

  • विनय शर्मा- विनय पेशे से फिटनेस ट्रेनर था। जब इसके पांच अन्‍य साथी निर्भया के साथ गैंगरेप कर रहे थे तो यह बस चला रहा था। अन्य दोषियों के साथ विनय तिहाड़ जेल में कैद है। राम सिंह के खुदकुशी करने के बाद विनय ने भी जेल के भीतर आत्‍महत्‍या की कोशिश की थी, लेकिन वह बच गया था।

  • अक्षय ठाकुर- बिहार का रहने वाला अक्षय ठाकुर अपनी पढ़ाई छोड़कर घर से भागकर दिल्ली आ गया था। यहां उसकी दोस्ती राम सिंह से हुई थी। उसके सहारे वह फल बेचने वाले पवन गुप्ता से भी घुल-मिल गया था। अक्षय ठाकुर भी तिहाड़ जेल में कैद है। अक्षय ने सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर नहीं की थी।

  • पवन गुप्ता- पवन गुप्ता दिल्ली में फल बेचने का काम करता था। 16 दिसंबर को गैंगरेप के समय यह भी अपने दोस्तों के साथ उस बस में मौजूद था। पवन भी तिहाड़ जेल में बंद है। वह जेल में रहकर ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर रहा है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll