Box Office Collection of Dhadak and Student of The Year

दि राइजिंग न्‍यूज

गंगटोक।

 

भारत-चीन सीमा का दौरा करने सिक्किम के नाथुला पहुंचीं रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने चीनी सैनिकों का “नमस्ते” का मतलब बताया। शनिवार को अपने दौरे पर निर्मला ने चीनी सैनिकों के साथ संवाद किया और उन्हें बताया कि नमस्ते संबोधन का मतलब क्या है। चीन के सैनिकों ने भी गर्मजोशी दिखाते हुए चीनी भाषा में इसका जवाब दिया और हाथ जोड़कर अभिवादन किया।

 

रक्षा मंत्री के ट्विटर हैंडल पर एक डेढ़ मिनट का वीडियो पोस्ट किया गया है जिसमें यह पूरा संवाद दिखाया गया है। डोकलाम में सीमा विवाद के बाद दोनों देशों के सैनिकों के बीच तनाव काफी बढ़ गया था, निर्मला के दौरे से इलाके में शांति बहाल करने में मदद भी मिल सकती है।

 

 

रक्षा मंत्री बनी निर्मला सीतारमण ने चीन-भारत सीमा पर नाथुला इलाके का दौरा किया और आइटीबीपी के अधिकारियों से बातचीत की। सीतारमण सिक्किम के सीमावर्ती इलाके में डोकलाम और अग्रिम चौकियों का हवाई सर्वे करने वाली थीं, लेकिन खराब मौसम की वजह से हवाई दौरा रद्द कर दिया गया।

उसके बाद रक्षा मंत्री गंगटोक से 52 किलोमीटर दूर नाथुला सड़क मार्ग से पहुंचीं और उन्होंने वहां तैनात सेना तथा आइटीबीपी अधिकारियों से बातचीत की। इस दौरान सीमा पार से चीनी सैनिक उनकी तस्वीरें ले रहे थे और उन्होंने उनका अभिवादन किया।

 

 

सीतारमण ने अपने टि्वटर हैंडल पर कहा कि सीमा पर जब वह नाथुला पहुंचीं तो चीनी सैनिकों ने उनकी तस्वीरें ली। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि मैंने बाड़ के दूसरी ओर कई चीनी सैनिकों को देखा जो नाथुला पहुंचने पर मेरी तस्वीरें ले रहे थे। इस दौरान रक्षा मंत्री को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया और साथ ही उन्होंने सैनिकों को मिठाइयां भी गिफ्ट की। सिक्किम सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क विभाग की ओर से जारी बयान के अनुसार सिक्किम के सीमावर्ती इलाके में डोकलाम और अग्रिम चौकियों के हवाई सर्वेक्षण का उनका कार्यक्रम खराब मौसम के कारण रद्द कर दिया गया।

 

 

 

उन्हें पूर्वी कमान के चीफ लेफ्टिनेंट जनरल अभय कृष्णा ने सिक्किम सेक्टर में चीन-भारत सीमा पर सुरक्षा तैयारियों के बारे में बताया। उपसेना प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल सारथ चंद्रा भी वहां मौजूद थे। रक्षा मंत्री का सीमावर्ती इलाके का दौरा डोकलाम में करीब 70 दिनों के गतिरोध के बाद भारत और चीनी सेना को वहां से हटे हुए एक महीने से ज्यादा का समय बीतने के बाद हुआ है।

उन्होंने बाद में सिक्किम के मुख्यमंत्री पवन चामलिंग से उनके आधिकारिक आवास पर मुलाकात की और सेना तथा राज्य के वन विभाग के बीच भूमि मुद्दे समेत विभिन्न मुद्दों पर राज्य सरकार से हस्तक्षेप करने के लिए कहा।

 

 

विज्ञप्ति के अनुसार चामलिंग ने सरकार की ओर से पूरा हस्तक्षेप करने का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री ने पश्चिम बंगाल के पड़ोसी दार्जीलिंग पर्वतीय क्षेत्र में चल रहे आंदोलन के कारण सिक्किम के लोगों को हो रही परेशानियों के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि सिक्किम को देश के शेष हिस्से से जोड़ने वाला एकमात्र राष्ट्रीय राजमार्ग एनएच-10 अवरुद्ध होने के कारण उसे काफी आर्थिक नुकसान हो रहा है। उन्होंने केंद्र से सिक्किम के लिए नया राजमार्ग बनाने के काम में तेजी लाने का आग्रह किया।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll