Home Top News Latest Update Over Rohingya Muslims In India

मध्य प्रदेश: बगोटा गांव में एक झोपड़ी में लगी आग, 3 बच्चों की मौत

हावड़ा से पटना जा रही तूफान एक्सप्रेस में लगी आग

2008 से चल रहा था रोटोमैक घोटाला: सीबीआई

बैंक घोटाले में 13 PNB बैंक अधिकारियों से पूछताछ जारी: सीबीआई

नाडा के पीएम 21 फरवरी को अमृतसर में पंजाब के सीएम से करेंगे मुलाकात

रोहिंग्या मुसलमानों को देश से बाहर नहीं कर सकता भारत

Home | 11-Sep-2017 09:16:51 AM | Posted by - Admin

  • संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार प्रमुख ने की भारत की कड़ी निंदा

   
Latest Update over Rohingya Muslims in India

दि राइजिंग न्‍यूज

नई दिल्‍ली।

 

भारत में रह रहे रोहिंग्‍या मुसलमानों को लेकर कुछ समय से काफी विवाद चल रहा है। इसी बीच संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार प्रमुख जैद राद अल हुसैन ने रोहिंग्या मुसलमानों को भारत से वापस भेजने की केन्द्र सरकार की कोशिशों की निंदा की है।

कुछ देश जहां रोहिंग्या समुदाय को शरण देने के इच्छुक हैं, वहीं कई देश अपने यहां अवैध रूप से घुस आए रोहिंग्या मुसलमानों को बिल्कुल भी शरण नहीं देना चाहते, जिसमें भारत भी शामिल है।

 

अल हुसैन ने रविवार को कहा, "मैं ऐसे समय में रोहिंग्या मुसलमानों को उनके देश वापस भेजे जाने के लिए भारत द्वारा उठाए जा रहे कदमों की कड़ी निंदा करता हूं, जब उनके देश (म्यांमार) में उन पर जुल्म हो रहे हों।"

अल हुसैन ने कहा कि भारत में 40,000 रोहिंग्या मुसलमान शरणार्थी हैं, जिनमें से 16,000 रोहिंग्या ने संयुक्त राष्ट्र से शरणार्थी प्रमाण-पत्र ले लिए हैं।

 

अंतर्राष्ट्रीय कानून के संबंध में भारतीय विदेश राज्यमंत्री के बयान का हवाला देते हुए कहा, "भारत के विदेश राज्यमंत्री ने हाल ही में कहा था कि चूंकि भारत ने अंतर्राष्ट्रीय शरणार्थी संधि पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं, इसलिए भारत इस मुद्दे पर अंतर्राष्ट्रीय कानून से बाहर जा सकता है और मानवीय अनुकंपा से बंधा हुआ नहीं है।"

 

गौरतलब है कि विदेश राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने हाल ही में कहा था कि शरणार्थियों के मामले में अंतर्राष्ट्रीय संगठन भारत को लेक्चर न दें। रिजिजू ने यह भी कहा था कि रोहिंग्या मुसलमान भारत में अवैध प्रवासी हैं और कानून के मुताबिक उन्हें वापस जाना ही होगा।

 

रोहिंग्या मुसलमानों को म्यांमार वापस भेजने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बीते सप्ताह ही सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को अवैध तरीके से रह रहे रोहिंग्या मुसलमानों की पहचान करने के लिए एडवाइजरी जारी की। एडवाइजरी में रोहिग्या मुसलमानों से खतरे की बात भी कही गई है।

ज्ञात हो कि एडवाइजरी जब जारी हुई उस समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी म्यांमार दौरे पर थे।

 

अल हुसैन ने आगे कहा, "लेकिन व्यावहारिक धरातल पर, अंतर्राष्ट्रीय नागरिक एवं राजनीतिक अधिकार संधि का हिस्सा होने के चलते वह पूरी प्रक्रिया का पालन करने और शरणार्थियों को मौत के मुंह में न धकेलने के यूनिवर्सल प्रिंसिपल का पालन करने के लिए बाध्य है और इसलिए भारत सामूहिक निर्वासन नहीं कर सकता या शरणार्थियों को ऐसी जगह वापस नहीं भेज सकता, जहां उन पर जुल्म होने या अन्य गंभीर प्रताड़नाएं मिलने का खतरा हो।"

 

साथ ही अल हुसैन ने भारत में धार्मिक एवं अन्य अल्पसंख्यकों के खिलाफ असहिष्णुता का माहौल उभरने की भी निराशा व्यक्त की।

 

उन्होंने कहा, "हिंसा का मौजूदा दौर, जो अक्सर प्राणघातक हो जाता है तथा गोरक्षा के नाम पर भीड़ द्वारा लोगों पर हमला किया जाना भायवह है। मौलिक मानवाधिकारों की हिमायत करने वाले लोगों को भी धमकाया जा रहा है। सांप्रदायिकतावाद और घृणा के विनाशक प्रभाव के बारे में लगातार आवाज उठाने वाली पत्रकार गौरी लंकेश की पिछले सप्ताह ही हत्या कर दी गई। भारत में सर्वाधिक वंचित तबके के अधिकारों के लिए आवाज उठाने वाले लोगों को भारत में एक मजबूत और समावेशी समाज स्थापित करने में सहयोगियों की तरह समझा जाना चाहिए।"

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news