Neha Kakkar Reveald Her Emotional Connection with Indian Idol

दि राइजिंग न्‍यूज

गुरुग्राम। 

 

गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में आठ सितंबर को निर्ममता से की गई सात साल के मासूम प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या मामले में एक नया मोड़ आया है। सीबीआइ ने इस केस में रेयान स्कूल के ही 11वीं के छात्र को गिरफ्तार किया है।

इसके बाद सीबीआइ ने प्रद्युम्न के हत्यारोपी छात्र को जुवेनाइल जस्टिूस बोर्ड में पेश किाया है। साथ ही सीबीआइ ने कोर्ट से आरोपी के 6 दिन की रिमांड की मांग की है, जहां से उसे तीन दिन की सीबीआइ कस्‍टडी में भेजा गया।

 

 

वहीं प्रद्युम्न के पिता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पुलिस की जांच पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा है कि इस मर्डर केस में पिंटो परिवार की भी साजिश हो सकती है। प्रद्युम्न परिवार के वकील सुशील टेकरीवाल ने कहा है कि हम आरोपी छात्र के लिए ज्यादा से ज्यादा सजा की मांग करते हैं। उसके साथ एक बालिग की तरह सलूक किया जाना चाहिए और उसे फांसी होनी चाहिए। वकील ने यह भी कहा है कि सीबीआइ ने अभी पिंटो परिवार को क्लीन चिट नहीं दी है।

 

 

बता दें कि अब तक की जांच में हरियाणा पुलिस ये कह रही थी कि कंडक्टर अशोक ने प्रद्युम्न की हत्या की, लेकिन इसी केस की जांच करने वाली सीबीआइ ने नया खुलासा ये कि किया कि हत्या स्कूल के ही 11वीं के छात्र ने की है।

 

सीबीआइ ने दावा किया है कि स्कूल की परीक्षा और पेरेंट्स टीचर मीटिंग यानी पीटीएम को टलवाने के लिए छात्र ने हत्या की वारदात की। सीबीआइ की जांच में प्रद्युम्न के साथ यौन दुर्व्यवहार का दावा भी गलत साबित हुआ है। सीबीआइ जांच ने हरियाणा पुलिस की जांच और थ्यौरी पर कई सवाल खड़े कर दिए हैं।

 

 

11वीं के छात्र ने की प्रद्युम्न की हत्या: सीबीआइ

सीबीआइ ने कहा कि 11वीं के छात्र की गिरफ्तारी वैज्ञानिक तथ्यों और फोरेंसिक जांच के आधार पर की गई है। सीबीआइ ने अपनी जांच में सीसीटीवी फुटेज, कॉल रिकार्ड्स और स्कूल के बाकी छात्रों से भी पूछताछ की थी।

 

 

बताया जा रहा है कि आरोपी छात्र ने ही सबसे पहले स्कूल के वॉशरूम में एक बच्चे के खून से लथपथ बच्चे के पड़े होने की जानकारी दी थी। 22 सितंबर को केस को हाथ लेने के बाद सीबीआइ ने कई बार इस छात्र से पूछताछ की और बुधवार रात गिरफ्तार कर लिया। आरोपी छात्र के पिता का कहना है कि उनके बेटे को फंसाया जा रहा है।

 

आरोपी छात्र के पिता ने कहा है, सीबीआइ ने हमारे बेटे को फंसाया है। उस दिन बेटे ने परीक्षा दी थी और उसकी शर्ट पर खून का एक भी दाग किसी को नहीं दिखा।

 

 

वहीं सीबीआइ का दावा है कि 11वीं का छात्र पढ़ाई में कमजोर था। साथ ही वो मानसिक तौर पर भी कमजोर था। 11वीं के छात्र की गिरफ्तारी के बाद सीबीआइ के सामने अभी कई सवाल खड़े हैं, जिन्हे सीबीआइ को अदालत में साबित करना होगा।

  • पहला सवाल- अगर आरोपी ने परीक्षा के डर से हत्या की तो फिर उसी दिन हत्या के बाद परीक्षा क्यों दी?
  • दूसरा सवाल- आरोपी छात्र दिमागी रूप से कमजोर था। सीबीआइ आखिर किस आधार पर ये दावा कर रही है?
  • तीसरा सवाल- क्या आठ सितंबर के आसपास स्कूल में पैरेंट्स-टीचर मीटिंग तय थी?
  • चौथा सवाल- क्या वॉशरूम के कमोड में जो चाकू मिला, वो आरोपी छात्र ही लाया था?

 

सीबीआइ ने कहा है कि उसने पूरी जांच पड़ताल के बाद आरोपी को गिरफ्तार किया है। आरुषि हत्याकांड के बाद वो किसी भी तरह की किरकिरी में नहीं फंसना चाहेगी।

 

 

क्‍या है मामला?

गुरुग्राम के रायन स्कूल में आठ सितंबर को प्रद्युम्न की हत्या हुई थी। हरियाणा पुलिस ने उसी रात स्कूल के बस कंडक्टर अशोक को गिरफ्तार कर लिया था। 22 सितंबर को ये केस सीबीआइ को सौंपा गया था। सीबीआइ की कार्रवाई के बाद हरियाणा पुलिस पर बड़े सवाल उठ रहे हैं।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll