Second Teaser of Movie Sanju  Released

दि राइजिंग न्यूज़

सूरत।

 

नोटबंदी की पहली सालगिरह पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी गुजरात के सूरत में व्‍यापारियों का हालचाल लेने पहुंचे। वहां मीडिया से बात करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि जीएसटी लागू करने से पहले उनकी बात नहीं सुनी गई।

राहुल बोले कि जीएसटी में पांच स्लैब नहीं होने चाहिए और सबसे ज्यादा टैक्स 18 प्रतिशत होना चाहिए था। इस बातचीत में नोटबंदी को शामिल किया जा सकता है।

 

यहां व्यापारियों को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने एक बार फिर मोदी सरकार की नीतियों पर जमकर वार किया। राहुल गांधी ने कहा कि अगर मोदी सरकार बड़े उद्योगपतियों पर किए गए खर्च का 15 फीसदी भी सूरत में लगाती तो तस्वीर कुछ और ही होती।

 

 

राहुल ने यहां कारोबारियों के बीच भरोसा जगाने की भी भरपूर कोशिश की। उन्होंने कहा, मैं जो वादा पूरा कर सकता हूं वही करता हूं। एक बार जब मैं कुछ ठान लेता हूं तो फिर पीछे नहीं हटता।

 

इससे पहले राहुल गांधी को तब असहज स्थ‍िति का सामना करना पड़ा, जब न्यू टेक्सटाइल मार्केट में कुछ लोगों ने मोदी-मोदी के नारे लगाए। इससे कांग्रेस और बीजेपी कार्यकर्ताओं में हाथापाई तक की नौबत आ गई।

 

 

हीरा तराशने के सीखे गुर

राहुल सूरत के प्रसिद्ध हीरा कारोबार के केंद्र पर भी पहुंचे और उन्होंने हीरा व्यापारियों की समस्याएं सुनीं। इस दौरान उन्होंने वर्कर्स से हीरा तराशने के गुर भी सीखे। नोटबंदी से हीरा व्यापारियों को भी काफी दिक्कतें हुई हैं।

 

 

नोटबंदी के विरोध में जुलूस

राहुल गांधी सूरत के विभिन्न मैन्युफैक्चरिंग यूनिट का दौरा कर रहे हैं। उन्होंने कपड़ा, एम्ब्रॉयडरी, डाइंग आदि यूनिट्स का दौरा किया और वहां वर्कर्स से मिले। राहुल सूरत के दिन भर के दौरे पर हैं। वह शाम को नोटबंदी की पहली वर्षगांठ पर सूरत में आयोजित कैंडल लाइट जुलूस में भी शामिल होंगे।

 

 

सूरत पहुंचने पर मीडिया से बातचीत में राहुल ने कहा कि जीएसटी के पांच स्लैब काम नहीं कर सकते। उन्होंने कहा, “हमने टैक्स की अधिकतम सीमा 18% पर रखने की मांग की थी, लेकिन हमारी बात नहीं सुनी गई। हमारा प्वाइंट बेहद सामान्य है, जीएसटी में सुधार की जरूरत है।” सूरत में राहुल गांधी ने सड़क किनारे एक गुमटी पर रुक कर चाय भी पी।

 

कपड़ा कारोबार के लिए मशहूर सूरत में राहुल गाधी ने डाई कारखाने में कारीगरों के साथ भी वक्त बिताया और नोटबंदी के कारण उन्हें हुईं दिक्कतें सुनी। उन्होंने कहा कि कभी सूरत चीन को टक्कर दे रहा था, लेकिन नोटबंदी और जीएसटी ने सूरत की कमर तोड़ दी। उन्होंने कहा, “एक साल पहले नोटबंदी ने देश के गरीब किसानों, छोटे-मंझोले व्यापारियों पर हमला कर दिया।”

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll