Golmal Starcast Will Be in Cameo in Ranveer Singh Simba

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

नोटबंदी का एक साल आज पूरा हो गया है। इस मौके पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, ''नोटबंदी एक ट्रैजिडी है। प्रधानमंत्री के बिना सोचे समझे लिए फैसले से लाखों ईमानदार लोगों के जीवन जीने का तरीका तबाह हो गया। मोदी सरकार के इस बदलाव से देश की इकोनॉमी की ताकत खत्म हो गई। 4 महीने में 15 लाख लोग बेरोजगार हो गए।''

 

गौरतलब है कि नोटबंदी के एक साल पूरा होने पर कांग्रेस देशभर में ब्लैक डे मना रही है तो बीजेपी ने इसे एंटी-ब्लैक मनी डे के रूप में मनाने का एलान किया है।

नोटबंदी की सालगिरह पर किसने-क्या कहा?

 

नरेंद्र मोदी

मोदी ने ट्वीट किया, "125 करोड़ भारतीयों ने निर्णायक जंग लड़ी और जीती। मैं भारत के लोगों का सम्मान करता हूं जिन्होंने देश में से करप्शन और ब्लैक मनी को खत्म करने के लिए उठाए गए सरकार के फैसलों का साथ दिया।"

राहुल गांधी

  • न्यूज एजेंसी के मुताबिक, कांग्रेस वाइस प्रेसिडेंट ने एक आर्टिकल में लिखा- ''नोटबंदी एक ट्रैजिडी है। प्रधानमंत्री के एक बिना सोचे समझे उठाए कदम ने लाखों ईमानदार लोगों के जीवन जीने का तरीका तबाह कर दिया। मोदी सरकार के इस बदलाव से देश की इकोनॉमी की ताकत खत्म हो गई। नोटबंदी से जीडीपी में 2% की गिरावट आई और लाखों वर्कर्स पर इसका असर पड़ा। ये एक बड़ा घोटाला है और मनी लॉन्ड्रिंग स्कीम है।''

  • ''लोग बेरोजगार हुए, उनके अंदर गुस्सा है। पहले 4 महीने में ही 15 लाख लोगों की नौकरी चली गई। मोदी जी ने कहा था कि नोटबंदी से करप्शन खत्म होगा, लेकिन पिछले 12 महीने में एक ही बात सामने आई, वो है ग्रोथ कर रही इकोनॉमी में गिरावट। जीएसटी लागू करना इकोनॉमी के लिए एक और झटका साबित हुआ।''

  • ''मैन्यूफैक्चरिंग सेक्चर में चीन का दबदबा बढ़ा है। 1990 के दशक में उसकी हिस्सेदारी 3% थी, जो अब 25% हो गई है। चीन जहां एक दिन में 50 हजार लोगों को नौकरी देता है। मोदी जी सिर्फ 500 लोगों को नौकरी दे पा रहे हैं।''

  • नोटबंदी के वक्त बैंकों की लाइन में लगे लोगों की फोटो ट्वीट करते हुए राहुल ने लिखा, "एक आंसू भी हुकूमत के लिए ख़तरा है, तुमने देखा नहीं आंखों का समुंदर होना।"

पी. चिदरंबरम

  • पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा, ''नोटबंदी से देश के लाखों लोग परेशानी में आ गए। इसके चलते कइयों की जानें और नौकरी गई, कोई भी इससे इनकार नहीं कर सकता है। मोदी ने इकोनॉमी के साथ जुआ खेला।''

  • ''फिलहाल लोगों के पास 15 लाख करोड़ कैश है और जल्द ही ये नवंबर, 2016 के लेवल (17 लाख करोड़) तक पहुंच जाएगा। इकोनॉमी में कितना कैश होना चाहिए, ये आरबीआई का डिसीजन है, ना कि सरकार का।''

  • ''ट्रांसपेरेंसी को ध्यान में रखते हुए सरकार को आरबीआई बोर्ड का एजेंडा और पूर्व गवर्नर रघुराम राजन का नोट जारी करना चाहिए। अगर सरकार को अपने फैसले पर भरोसा है तो वह इन डॉक्यूमेंट्स को पब्लिक करने से क्यों डर रही है।''

ममता बनर्जी

  • पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, ''ये एक तरह से 'DeMoDisaster' है। कालेधन को सफेद करने के लिए बड़ा घोटाला हुआ। अगर अच्छे से जांच कराई जाए तो सब सच सामने आ जाएगा। नोटबंदी से कालेधन के खिलाफ लड़ाई नहीं लड़ी जा सकती है। बीजेपी ने इसका इस्तेमाल सिर्फ कालेधन को सफेद करने के लिए किया है।''

  • नोटबंदी के 1 साल पूरे होने पर ममता ने विरोध में अपने ट्वीट अकाउंट की डिस्प्ले पिक्चर (DP) ब्लैक कर दी। साथ ही उन्होंने ट्वीट्स के साथ #DeMoDisaster और #Nov8BlackDay हैशटैक का इस्तेमाल किया।

पृथ्वीराज चव्हाण

  • महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा, ''पार्लियामेंट्री कमेटी जांच करे कि नोटबंदी के पीछे मोदी सरकार की असल मंशा क्या थी। आरबीआई ने कहा है कि नोटबंदी के बाद चलन से बाहर हुई पूरी करंसी सिस्टम में लौट आई। अब जेटली कह रहे हैं कि नोटबंदी से डिजिटिलाइजेशन को बढ़ावा मिला। सवाल ये उठता है कि क्या पीएम मोदी को इसके पीछे की मंशा की जानकारी थी या उन्हें अंधेरे में रहा गया?''

  • ''पेमेंट प्रॉसेसिंग कंपनियां देश को लूटती रहेंगी, जब तक कि सरकार कोई पेमेंट्स रेग्यूलेटरी बोर्ड नहीं बनाती है। वित्त मंत्री जेटली ने बजट स्पीच में इसका जिक्र किया था। अब तक तो कोई फैसला नहीं लिया गया। अगर इसके लिए हमारे पास कोई ठोस व्यवस्था नहीं होगी तो लोगों को कैशलेस की ओर कैसे ले जाएंगे।''

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement