Amitabh Bachchan on Z Plus Securities to Politicians

दि राइजिंग न्‍यूज

नई दिल्‍ली।

 

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में जहरीली शराब के कहर से अब तक 100 से ज्यादा लोगों के मारे जाने की खबर है। इस मामले से हरकत में आई उत्तर प्रदेश सरकार और प्रशासन ताबड़तोड़ कार्रवाई कर रही है। यूपी के आबकारी विभाग के अनुसार, हादसे पर अब तक 297 मुकदमा दर्ज करके 175 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। साथ ही अकेले सहारनपुर में 10 पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है।  

इसके अलावा राज्य सरकार जहरीली शराब बनाने और बेचने वालों पर राष्ट्रीय सुरक्षा एक्ट (रासुका) लगाने की तैयारी कर रही है। ताजा आंकड़े के मुताबिक, दोनों राज्यों में अब तक कुल 109 लोगों की मौत हो चुकी है। मौत की संख्या 100 के पार जाने पर योगी सरकार की सख्ती के बाद प्रशासन ने अवैध शराब बनाने और बेचने वालों के खिलाफ 15 दिन का अभियान शुरू किया है। 

मुख्यमंत्री योगी ने दिए थे सख्त कार्रवाई के आदेश

सहारनपुर में अब तक 39 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है जबकि 35 मुकदमें दर्ज किए गए हैं। सहारनपुर में अवैध शराब की भठ्ठियों से 36,100 किलो लहन (कच्चा पदार्थ), 250 लीटर कच्ची शराब और 60 लीटर अंग्रेजी शराब बरामद हुई है। अकेले सहारनपुर में 16 गांव के लोग इस जहरीली शराब की चपेट में आए थे। शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त कार्रवाई के आदेश दिए थे। इसके बाद अवैध शराब के खिलाफ पूरे प्रदेश में जोरदार अभियान चलाया जा रहा है। अवैध शराब के ठिकानों पर पुलिस छापा मार रही है। पूरे अभियान पर पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) निगरानी रख रहे हैं।

सरकार ने की मुआवजे की घोषणा

इस बीच सरकार ने पीड़ितों के परिजनों के लिए मुआवजे की घोषणा कर दी है। मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख और इलाज कर रहे लोगों को 50-50 हजार रुपये का मुआवजा सरकार की ओर से दिया जाएगा। जहरीली शराब के कारण दोनों राज्यों में मिलाकर अब तक 108 लोगों की मौत हो चुकी है, जिसमें उत्तर प्रदेश में 77 और उत्तराखंड में 32 लोगों की मौत हुई है।

उत्तराखंड के रुड़की में अब तक 32 लोग मारे जा चुके हैं, जबकि यूपी में सहारनपुर में 69 (सहारनपुर में 46 और मेरठ में 23) और कुशीनगर में 8 लोगों की मौत की खबर है। दोनों राज्यों में मौत का आंकड़ा अभी और बढ़ सकता है, क्योंकि रुड़की में अभी भी कई लोगों की तबीयत बहुत गंभीर बनी हुई है। दूसरी ओर, राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) के राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल दुबे ने प्रदेश में जहरीली शराब से बड़ी संख्या में हुई मौतों पर दुख व्यक्त करते हुए इसके लिए प्रदेश सरकार और स्थानीय प्रशासन को जिम्मेदार बताया।

आरएलडी के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने की 10 लाख रुपए के मुआवजे की मांग

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पहले ही लखनऊ, उन्नाव, कानपुर और कई अन्य जिलों में कार्रवाई की होती तो आज सहारनपुर और कुशीनगर में इस घटना की पुनरावृत्ति नहीं हुई होती। उन्होंने जहरीली शराब से मारे गए लोगों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये और बीमारों को 2-2 लाख रुपये का मुआवजा देने की मांग भी की। साथ ही उन्होंने शराब माफियाओं के खिलाफ युद्ध स्तर पर कार्रवाई करने की मांग भी की।  

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement