Ayushman Khurrana Wants To Work in Kishore Kumar Biopic

दि राइजिंग न्‍यूज

नई दिल्‍ली।

 

देश के बहुचर्चित देवघर चारा घोटाला केस में सलाखों के पीछे पहुंचे राजद प्रमुख लालू यादव ने सुनवाई के दौरान केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) कोर्ट से कई शिकायतें की। उन्होंने खुद को एक बड़ा नेता याद बताते हुए कोर्ट से कहा कि उनके साथ सामान्य कैदी की तरह व्यवहार किया गया। कोर्ट ने इसके जवाब में लालू से कहा कि नियम सभी के लिए बराबर होते हैं फिर चाहे वो कोई भी हो।

 

 

सूत्रों के मुताबिक कोर्ट में सुनवाई कर रहे जज और लालू के बीच कई ऐसी बातें हुई कि माहौल हंसी वाला बन गया था। इस दौरान लालू ने शिकायत करते हुए कहा कि उनके जानकारों से जेल परिसर मिलने नहीं दे रहा है, इस पर जज ने कहा कि जेल के नियमों का पालन करना पड़ेगा। 

वहीं लालू ने जब सजा 3.5 साल से 2.5 साल करने की कही तो जज ने कहा कि वे ऐसा क्यों करें? जज ने कहा कि ऐसी बातें कोर्ट में न करें।

 

 

यह आठवीं बार है जब लालू जेल में हैं, लेकिन यह पहली बार है जब जेल अधिकारी उनपर नियम-कानून थोप रहे हैं। भाजपा शासित रघुबर दास की झारखंड सरकार ने राजद अध्यक्ष को किसी भी तरह का स्पेशल ट्रीटमेंट देने से मना कर दिया है।

 

 

बुधवार को लालू ने कोर्ट में एक और दलील देते हुए कहा कि मकर संक्रांति महोत्सव रविवार को है। उन्होंने कहा, हम इसे दही-चूड़ा खाकर धूम-धाम तरीके से मनाते हैं। इसी वजह से उन्हें समर्थकों से मिलने दिया जाए। मगर जज ने उनकी इस बात को नजरअंदाज करते हुए एक फीकी मुस्कान देते हुए कहा कि वो इस बात को सुनिश्चित करेंगे कि उन्हें जेल में दही-चूड़ा मिल जाए।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement