Box Office Collection of Race 3

दि राइजिंग न्‍यूज

नई दिल्‍ली।

 

मंगलवार को श्रीलंका सरकार ने देशभर में आपातकाल घोषित कर दिया है। सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा है कि सांप्रदायिक हिंसा भड़काने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए इमरजेंसी लगाई गई है। सोमवार को कैन्डी नाम के शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया था। इससे पहले एक बौद्ध शख्स की हत्या कर दी गई थी और मुसलमानों की दुकानों में आग लगा दिया गया था।

बौद्ध और मुस्लिमों के बीच तनाव की स्थिति कई दिनों से चल रही थी। पुलिस ने कहा था कि कैन्डी जिले में ही दंगे के मामले हुए हैं, लेकिन अलजजीरा की रिपोर्ट में कहा गया था कि पूरा देश हिंसा की चपेट में है।

श्रीलंका में इससे पहले भी सांप्रदायिक हिंसा में काफी जानें गई हैं। यहां 10 फीसदी आबादी मुस्लिमों की है और 75 फीसदी लोग बौद्ध हैं। 13 फीसदी हिन्दूओं की आबादी भी यहां रहती है।

aljazeera.com के मुताबिक, कुछ लोग राष्ट्रीय बौद्ध संस्थाओं को हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। फरवरी में दोनों संप्रदायों के बीच हिंसा में पांच लोग घायल हो गए थे और काफी दुकानों और मस्जिदों को नुकसान पहुंचाया गया था।

रिपोर्ट के मुताबिक, जून 2014 में एलुथगामा दंगे के बाद मुस्लिम विरोधी कैंपेन चलाए गए थे। कुछ बौद्ध समूहों ने आरोप लगाया था कि मुस्लिम जबरन धर्म परिवर्तन करा रहे हैं।

2015 में सत्ता में आने के बाद राष्ट्रपति एम सिरेसेना ने कहा था कि वे मुस्लिम विरोधी हिंसा के मामलों की जांच करवाएंगे। हालांकि, बाद में कुछ खास नहीं हुआ।

बता दें कि मालदीव में पहले से ही आपातकाल चल रहा है। सेना ने मालदीव की संसद पर भी कब्जा कर लिया था। सैन्यकर्मियों ने संसद में मौजूद सांसदों को खींचकर बाहर निकाल दिया था। वहीं, रोहित शर्मा की अगुवाई में भारतीय क्रिकेट टीम इस समय श्रीलंका के दौरे पर है और टी-20 सीरीज का पहला मैच आज शाम को खेला जाना है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

The Rising News

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll