Box Office Collection of Raazi

दि राइजिंग न्‍यूज

श्रीनगर।

 

गुरुवार देर शाम आतंकियों ने राइजिंग कश्मीर अखबार के संपादक सुजात बुखारी की गोली मारकर हत्या कर दी। इस हमले में उनका पीएसओ भी घायल हो गया था, जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई।

जानकारी के मुताबिक, श्रीनगर के प्रेस कालोनी में देर शाम शुजात बुखारी काम के बाद अपने दफ्तर से घर के लिए निकल रहे थे। इसी बीच घात लगाकर बैठे आंतकियों ने उनकी गाड़ी को घेर कर ताबड़तोड़ गोलीबारी की।

इस हमले में वो और उनका पीएसओ गंभीर रूप से जख्मी हो गए। घटना के बाद दोनों को आनन-फानन में अस्पताल ले जाया गया। जहां उनकी मौत हो गई। घटना के बाद पुलिस ने इलाके को घेर कर आतंकियों की तलाश शुरू कर दी। हालांकि आतंकियों का कोई पता नहीं चल सका है।

चार आतंकियों ने घटना को दिया अंजाम

चार आतंकियों ने प्रेस कालोनी में घुसकर इस घटना को अंजाम दिया। सूत्रों के मानें तो आतंकी हमला करने के बाद उनके पीएसओ की राइफल भी अपने साथ ले गए। हालांकि, पुलिस की ओर से फिलहाल इस मामले में कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया गया है।

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने जताया दु:ख

पत्रकार पर हुए आतंकी हमले पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कड़ी निंदा करते हुए कहा कि संपादक शुजात बुखारी की हत्या डरपोक भरा कार्य है। यह कश्मीर की आवाज का चुप करने का प्रयास है। वह एक साहसी और निडर पत्रकार थे। दु:ख की इस घड़ी में मेरी दुआएं उनके परिवार के साथ हैं।

वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी की मौत की खबर मिलते ही हर कोई चौकन्ना हो उठा। रियासत की सीएम महूबबा मुफ्ती ने घटना पर दुख जताते हुए उनके परिवार के प्रति अपनी संवेदनाएं व्यक्त की। गौरतलब है कि पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने भी ट्वीट करते हुए लिखा कि सुनकर चौकन्ना हूं। अल्लाह उनके परिवार को इस दुख को सहने की शक्ति दें।

साल 2000 में भी हो चुका था हमला

पत्रकार शुजात बुखारी पर इसके पहले साल 2000 में भी आतंकी हमला हो चुका था। हालांकि वह उस दौरान बाल बाल बच गए थे। उस हमले के बाद ही उन्हें पुलिस ने सुरक्षा मुहैया कराई थी। शुजात कश्मीर में शांति की बहाल कराने के  लिए लगातार सक्रिय थे।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll