Home Top News Indian Prime Minister Narendra Modi Statements On Bank

जज लोया मौत केसः SC ने कहा- नहीं होगी सीबीआई जांच

जज लोया मौत केसः SC ने कहा- जजों के बयान पर शक की वजह नहीं

दिल्ली पुलिस पीसीआर पर तैनात एएसआई धर्मबीर ने खुद को गोली मारी

दिल्ली: केंद्रीय खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह ने की IOC प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात

बिहार: पटना के एटीएम में कैश ना होने से स्थानीय लोग परेशान

2G, CWG और कोल स्कैम से बड़ा था NPA घोटाला...

Home | 13-Dec-2017 17:10:06 | Posted by - Admin
   
Indian Prime Minister Narendra Modi Statements on Bank

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) के 90 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि आजकल बैंकों के बारे में अफवाह फैलाई जा रही है कि बैंकों में लोगों का पैसा सुरक्षित नहीं रहेगा।

 

पीएम ने कहा कि एफआरडीआइ के बारे में अफवाह फैलाई जा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार जमाकर्ताओं के हितों और अधिकारों की रक्षा करने के लिए काम कर रही है, लेकिन अफवाह पूरी तरह से विपरीत फैलाई जा रही है। ऐसे अफवाहों को दूर करने के लिए फिक्की जैसे संस्थानों का योगदान महत्वपूर्ण है।

पीएम ने कहा कि हम एक ऐसा सिस्टम बनाने पर काम कर रहे हैं जो न केवल पारदर्शी है, बल्कि संवेदनशील भी है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने लोगों की जरूरत समझी, जनधन योजना के जरिए लोगों के बैंक खाते खुलवाए।

 

पीएम ने कहा कि आजकल जो NPA का हल्ला मच रहा है, यह पहले की सरकार में बैठे अर्थशास्त्रियों की, इस सरकार को दी गई सबसे बड़ी लायबिलिटी है। पीएम ने मनमोहन सिंह पर हमला बोलते हुए कहा कि ये NPA यूपीए सरकार का सबसे बड़ा घोटाला था। उन्होंने कहा कि कॉमनवेल्थ, 2जी, कोल से भी कहीं बड़ा घोटाला था। जो लोग मौन रहकर सब कुछ देख रहे थे, क्या उन्हें जागने की कोशिश किसी संस्था द्वारा की गई?

उन्होंने कहा कि पहले की सरकार में बैठे लोग जानते थे, बैंक जानते थे, उद्योग-जगत भी जानता था और बाजार से जुड़ी संस्थाएं भी जानती थीं कि गलत हो रहा है।

 

उन्होंने कहा कि जब सरकार में बैठे कुछ लोगों द्वारा बैंकों पर दबाव डालकर कुछ विशेष लोगों को लोन दिलवाया जा रहा था, तब फिक्की जैसी संस्थाएं क्या कर रही थीं। उन्होंने कहा कि हमारे यहां एक ऐसा सिस्टम बना, जिससे गरीब लड़ रहा था। छोटी-छोटी चीजों के लिए उसे संघर्ष करना पड़ रहा था। अपनी ही पेंशन, स्कॉलरशिप पाने के लिए यहां-वहां कमिशन देना होता था।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll

Merchants-Views-on-Yogi-Government-One-Year-Completion




Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news