Golmal Starcast Will Be in Cameo in Ranveer Singh Simba

दि राइजिंग न्‍यूज

नई दिल्‍ली।

 

अब गुजरात विधानसभा चुनाव बेहद नजदीक है। ऐसे में सूबे की दोनों प्रमुख पार्टियों कांग्रेस और बीजेपी के नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोप चरम पर है। पीएम मोदी समेत पूरी बीजेपी जहां विकास के दावे कर रही है, वहीं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी समेत कांग्रेस पार्टी के तमाम नेता दावों की पोल खोलने का काम करने में जुटे हैं।

 

 

इसी कड़ी में अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने गुजरात के विकास को आधार बनाते हुए पीएम मोदी को निशाने पर लिया है। चिदंबरम ने रविवार सुबह एक के बाद एक कई ट्वीट किए और विकास के पैमानों पर गुजरात की हकीकत बताने का दावा किया।

 

अपने पहले ट्वीट में चिदंबरम ने लिखा कि पिछले 57 सालों में देश के बाकी राज्यों की तरह गुजरात ने भी तरक्की की। गुजरात भी 1991 के आर्थिक उदारीकरण का लाभ पाने वाले राज्यों में से एक है, लेकिन वह अपवाद नहीं है।

दूसरे ट्वीट में चिदंबरम ने विकास के क्रम में गुजरात कहां खड़ा है, ये बताने की कोशिश की। उन्होंने लिखा कि सामाजिक प्रगति सूचकांक में देश के 29 राज्यों के साथ गुजरात 15वें स्थान पर आता है यानी 14 राज्य गुजरात से ऊपर हैं और 14 उसके नीचे आते हैं।

 

 

बुनियादी जरूरतों में गुजरात टॉप 5 में है, लेकिन जनकल्याण की सूची में वो पांचवें नंबर पर है, जबकि सूबे जनता के लिए अवसर पैदा करने की श्रेणी में गुजरात का 9वां नंबर है। दूसरे राज्यों की तरह ही गुजरात में भी लोग असंतुष्ट हैं। खासकर यहां किसान काफी दु:खी हैं।

 

सरदार सरोवर बांध गलत शासन का उदाहरण है। 18.45 लाख हेक्टेयर जमीन के एक-चौथाई से भी कम हिस्से को पानी मिला। 30 हजार किलोमीटर से ज्यादा नहरें अब भी अधूरी पड़ी हैं।

दलित और आदिवासियों की अवहेलना की गई है। वो दमन और हिंसा के पीड़ित हैं। अल्पसंख्यकों को लगता है कि उनके साथ भेदभाव किया जा रहा है और उन पर एजेंडा थोपा जा रहा है।

 

 

मोदी के मुख्यमंत्री बनने से बहुत पहले, भारतीय लोग और केंद्र सरकारों ने गुजरातियों की उपलब्धियों को सराहा, जिनमें महात्मा गांधी भी शामिल हैं।

इसके अलावा चिदंबरम ने पीएम मोदी के चुनाव प्रचार को लेकर भी सवाल खड़े किए। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी को कम से कम राज्यों के चुनावों में तो एक प्रधानमंत्री की हैसियत से बोलना चाहिए।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement