Baaghi 2 Assistant Director Name Came in Physical Assault

दि राइजिंग न्यूज़

लखनऊ।

 

डॉ. अब्दुल कलाम टेक्नीकल यूनिवर्सिटी (एकेटीयू) के सम्बद्ध (एफिलिएटेड) कॉलेजों  में असिस्टेंट प्रोफेसर के पदों पर फर्जी नियुक्ति का मामला सामने आया है। इस मामले की जांच के लिए बीते बुधवार को भर्ती में शामिल अभ्यर्थी सिटी मजिस्ट्रेट से मिलने गए थे। मुलाकात न होने पर अभ्‍यर्थियों ने 20 जनवरी के बाद आमरण अनशन की चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि अगर हमारी मांगों पर कार्यवाई नहीं हुई तो आमरण अनशन ही एकमात्र रास्‍ता है। परिणाम ना आने तक यह अनशन लगातार जारी रहेगा। 

 

अभ्यर्थियों का कहना है कि विवि प्रशासन ने बिना परिणाम घोषित किये ही इंटरव्यू लिस्ट जारी कर नियुक्तियां कराईं। इसी सिलसिले में अभ्यर्थियों ने बीते 30 दिसंबर 2016 को लक्ष्मण मेला मैदान पर प्रदर्शन करते हुए जांच की मांग की थी।  

ये है मामला

एकेटीयू कुलपति विनय कुमार पाठक के घोटालों की पोल एक एक कर खुलती ही जा रही है। विवि से सम्बद्ध विभिन्न पदों की नियुक्तियों में की गई धांधलेबाजी अब सबके सामने आ चुकी हैं। रातों-रात परीक्षा कराने के नियम बदले गए, परीक्षा कराने वाले जिम्मेदारों को बदला गया, यहां तक परीक्षा के तरीके भी बदल दिए गए। गोपनीयता और सुरक्षा के नाम पर बरती गई ढी़ला-ढा़ली घोटालेबाजों की मंशा को साफ़ स्पष्ट करती है। AKTU कुलपति पर अब आरोप लगाया जा रहा है कि उन्होंने वेरिफिकेशन और परीक्षा के नाम पर 7000 आवेदकों के साथ भद्दा मजाक किया है। आवेदकों के पैसे तो डूबे ही साथ ही उनकी शिक्षक बनने की उम्मीद भी टूट चुकी है। अब अभ्यार्थी एक-एक कर अदालत की शरण में जा रहे हैं।

इसको भी पढ़ें: एकेटीयू: परीक्षा या आवेदकों के साथ मजाक

 

कुलपति जी के नामचीन किस्से

 

AKTU कुलपति की दबंगई के आगे सब फेल

विनय कुमार पाठक की दबंगई और पहुंच के चर्चे सुर्ख़ियों में रहते हैं। जब कुछ ईमानदार इसके मुखालिफ होते हैं तो कुलपति महोदय अपने रसूख के जरिए उन्हें ही अर्दब में ले लिया करते हैं। जब इससे भी बात नहीं बनती तो कुलपति जी और दो पायदान नीचे उतर आते हैं। अपनी पहुंच का इस्तेमाल कर उन्होंने पुलिस व अपने कारिंदों के जरिए उनकी अनियमितता के खिलाफ आवाज उठाने वाले के घर पर ही तोड़-फोड़ करवाई, धमकियां दी गईं। इसमें पुलिस भी पूरी तरह से शामिल रहीं। मामला कोर्ट पहुंचा तो तत्काल पीड़ित को मदद उपलब्ध कराने के आदेश हुए लेकिन वीसी से प्रभावित राजधानी की लखनऊ पुलिस आज तक सुरक्षा मुहैया नहीं करा पाई है।


इसको भी पढ़ें: शिकायत छोड़ शिकायतकर्ता के पीछे पड़े AKTU कुलपति

 

22 साल में बदली गई मार्कशीट

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी गड़बड़-घोटालों का केंद्र बनती जा रही है। यह संयोग ही कहा जा सकता है कि वर्तमान कुलपति विनय कुमार पाठक पर उत्तराखंड और कोटा में भी भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे और यह सिलसिला एकेटीयू में अनवरत जारी है। आरोप लगाया जा रहा है कि एकेटीयू के सहायक कुलसचिव आरके सिंह ने उपकुलसचिव बनने के लिए अपनी अंकतालिका ही बदल दी है। आरके सिंह की जो अंकतालिका अब तक सामने थी उसमें इनके 53 फीसद अंक थे लेकिन उपकुलसचिव पद के लिए किए गए आवेदन में अंकतालिका के अंक बढ़कर 59 फीसदी कर दिए गए हैं।


इसको भी पढ़ें: एकेटीयू: 22 साल में बदल गई मार्कशीट

इसी तरीके से करते हैं धांधलेबाजी 

विनय पाठक पर आरोप हैं कि कुलपति पद पर रहते हुए उन्होंने उत्तराखंड यूनिवर्सिटी और कोटा ओपन यूनिवर्सिटी में अपने चहेतों को नौकरी बाटने के आरोप लगे हैं। इस संदर्भ में उनके खिलाफ कई शिकयातें की गईं लेकिन कुलपति के रसूख के आगे सब छोटे पड़ गए। कुलपति विनय पाठक पर ये भी आरोप हैं कि पारदर्शिता के नाम पर ये लिखित परीक्षा तो करा देते हैं लेकिन उससे पहले ये अपने चहेतों के बीच प्रश्नपत्र भी लीक कर देते। जब इनके खिलाफ कोई आवाज़ उठाता है तो उसे इनके सियासी रसूख का सामना करना पड़ता है।    

इसको भी पढ़ें: धांडे-पाठक गठजोड़, संयोग या साजिश

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement