FIR Registered Against Singer Abhijeet Bhattacharya For Misbehavior From Woman

दि राइजिंग न्‍यूज

कानपुर।

 

एलएलआर हैलट के आइसीयू में मरीजों की मौत के मामले में शासन ने संज्ञान लेते हुए टीम गठित की और जांच के लिए डीजी हेल्थ केके गुप्ता को अस्पताल भेजा। अस्पताल पहुंचकर महज दो घंटे के अंदर डीजी हेल्थ खानापूर्ति कर चलते बने और उनका कहना है कि अस्पताल में एसी खराब होने से मौत नहीं हुई है बल्कि ये मौतें बीमारियों के कारण हुई हैं। डीजी हेल्थ के इस बयान के बाद अस्पताल प्रशासन ने राहत की सांस ली।

अस्पताल प्रशासन को मिली क्लीन चिट

आपको बता दें कि हैलट में हुई मौतों को लेकर डीजी हेल्थ के के गुप्ता देर शाम हैलट पहुंचे। जहां से वे सीधे प्राचार्य नवनीत कुमार से बात करने के बाद आइसीयू में पहुंचे। यहां उन्होंने हर जगह की पड़ताल की। काफी देर आइसीयू में रुकने के बाद बाहर निकले डीजी हेल्थ ने बताया कि आइसीयू में मरीजों की मौतें एसी के चलते नहीं बल्कि गंभीर बीमारी के कारण मरीजों की हुई हैं। डीजी की इन बातों से अस्पताल प्रशासन को क्लीन चिट जरूर मिल गयी।

 

 

हीट नहीं हुए थे उपकरण

मीडिया से बात करते हुए डीजी हेल्थ के के गुप्ता ने बताया कि दोनों एसी यूनिट को देखा है। पिछले दस सालों से इसका मेंटीनेंस हो रहा है। उन्‍होंने बताया कि आइसीयू में भर्ती मरीजों से बात हुई है, जिसमें उन्होंने बताया कि एसी जरूर नहीं चल रहा था, लेकिन अंदर ऐसी कोई बेचैनी या घुटन नहीं थी। उन्होंने यह भी कहा कि जैसा कि सुनने में आया कि आइसीयू के उपकरण काम नहीं कर रहे या हीट कर रहे हैं तो आइसीयू में वेंटिलेटर और मल्टी पैरा मॉनिटर जैसे उपकरण आज नई तकनीक के हैं जो कि टरबाइन बेस्ड हैं, वह हीट नहीं कर सकते। तो देखने पर ऐसा नहीं था कि उपकरण हीट हुए हों।

बीमारी है मौत का कारण

उन्होंने कहा कि हमारे सहयोगी दल लगातार पूछताछ कर रहे हैं। अगर एसी का मेंटीनेंस करने वाली कंपनी या पैरा मेडिकल या चिकित्सक दोषी होंगे तो उसके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा। वहीं, घटना की पुनरावृत्ति न हो जिसके लिए गाइड लाइन तैयार की जाएगी। उन्होंने कहा कि सभी पहलुओं को देखने के बाद यह लगता है कि मौत का कारण एसी नहीं बल्कि बीमारी है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll