Home Top News Detail Of PM Modi Village Vadnagar

पिछले 70 साल के दौरान पाकिस्तान ने अपने देश और भारत में जम कर खूनी खेल खेला: इंद्रेश कुमार

आज शाम 5:00 बजे हार्दिक पटेल सोमनाथ मंदिर दर्शन के लिए जाएंगे

देश के अगले पीएम होंगे राहुल गांधी: सुधींद्र कुलकर्णी

लखनऊ: जिप्पी तिवारी के बेटे के सभी हत्यारों की हुई गिरफ्तारी

असम में महसूस किए गए भूकंप के झटके

जानिए मोदी के गांव वडनगर से जुड़ी कुछ अनसुनी बातें

Home | 08-Oct-2017 13:00:07 | Posted by - Admin
  • महाभारत के इतिहास से जुड़ा है वडनगर
   
Detail of PM Modi Village Vadnagar

दि राइजिंग न्‍यूज

नई दिल्‍ली।

 

आज देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने पैतृक गांव वडनगर पहुंचे हैं जहां उनका दोनों हाथ फैलाकर कर और फूलों की बारिश करके स्‍वागत किया गया। प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी पहली बार अपने पैतृक गांव पहुंचे और उन्होंने अपने गांव को मेडिकल कॉलेज, अस्पताल की सौगात दी। जहां वो बचपन में चाय बेचा करते थे रविवार को उस रेलवे स्टेशन की नई बिल्डिंग का उद्घाटन भी करेंगे।

 

 

नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद वडनगर नए रूप रंग में ढल रहा है। वडनगर स्टेशन पर जहां मोदी बचपन में चाय बेचा करते थे उसे गुजरात पर्यटन और रेल मंत्रालय मिलकर पर्यटन स्थल के तौर पर विकसित कर रहा है। 

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 17 सितम्बर 1950 को वडनगर में जन्में थे और इनकी प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा भी यहीं से हुई थी। वडनगर कस्बे का इतिहास अनगिनत यादें समेटे हुए एक प्राचीन नगर है। बहुत कम लोगों को पता होगा कि उस नगर का अतीत भव्यता से पूर्ण था।

वडनगर में भगवान बुद्ध की गुफाएं और सोलंकी शासकों के बनवाए स्मारक भी हैं। यहां एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक शर्मिष्ठा झील है और सीढ़ियों वाला कुआं भी पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र रहा है।

 

 

वडनगर का इतिहास महाभारत काल से भी जुड़ा है। बताया जाता है कि इसे पहले आनंदपुरा के नाम से जाना जाता था। महाभारत काल में अनार्ता राजवंश का शासन था। आखिरी बार अनार्ता शासन का जिक्र 7वीं शताब्दी में मिला है जब चाइनीज यात्री शुआंगजांग यहां आए थे।

 

आनंदपुरा को अब वडनगर के नाम से जाना जाता है। इसे ब्राह्मणों का नगर भी कहा जाता था। 2009 में पुरातत्व विभाग को वडनगर में चार किलोमीटर लंबा दुर्ग भी मिला है। कहा जाता है कि वडनगर पहले गुजरात की राजधानी हुआ करता था। शहर छह गेटों से घिरा है, इन गेटों का नाम अर्जुन बारी, नादीओल, अरथोल, घसकोल, पिथोरी और अमरथोल है। वहीं कपिला नदी भी वडनगर से होकर गुजरती है।

 

 

वडनगर में ही गायिका ताना और रीरी का जन्म भी हुआ था। कहा जाता है कि जब तानसेन ने दरबार में राग दीपक गाया था और उनका शरीर उसके बाद पूरी तरह से झुलस गया था तब तानसेन देशभर में ईलाज के लिए भटक रहे थे तब इन दोनों बहनों के गाए राग मलहार के बाद उनका ताप कम हुआ था।

 

 

वडनगर को पहले टूरिस्ट ऐतिहासिक स्मारकों को देखने आए थे, लेकिन अब इन स्मारकों के साथ पर्यटक मोदी के घर को देखने भी पहुंच रहे हैं। टूरिज्म कॉरपोरेशन ऑफ गुजरात (टीसीजीएल) की वेबसाइट पर “ए राइज फ्रॉम मोदीज विलेज” के नाम से वडनगर टूर पैकेज भी है।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news




sex education news